HamburgerMenuButton

Gwalior Power Cut News: शहर में क्यों हो रही बिजली गुल, कारण जानने तीन सदस्यीय कमेटी आई भोपाल से

Updated: | Tue, 22 Jun 2021 10:33 PM (IST)

- मेंटेनेंस व ओवर लोड की जांच की जा रही

Gwalior Power Cut News: ग्वालियर.नईदुनिया प्रतिनिधि। मध्य क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी के प्रबंधन ने शहर में ट्रिपिंग व फाल्ट का कारण जाने के लिए तीन सदस्यीय कमेटी बनाई है। इस कमेटी के तीनों इंजीनियरों ने मंगलवार को बिजली गुल होने का कारण जानने के लिए सब स्टेशन व लाइनों का निरीक्षण किया है। शहर के सात सब स्टेशनों की स्थिति देखी। फीडर बार-बार क्यों बंद हो रहे हैं। इसके कारण भी जाने। इसमें वर्ड हिट सबसे बड़ा कारण सामने आया है। गिलहरी व पक्षी के इंसुलेटर पर बैठने से फाल्ट काफी आ रहे हैं। ऐसी क्या व्यवस्था की जाए, जिससे गिलहरी व पक्षी तार व लोहे से एक साथ न टकराए। इसका भी सुझाव देंगे।

शहर पिछले 15 दिनों से फाल्ट व ट्रपिंग के कारण बेहाल है। उर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर ने भी ट्रिपिंग व फाल्ट को लेकर सख्ती बरती है। खुद ट्रांसफार्मर रखवाए। बेल व कचरा हटाने के लिए खुद को पोल पर चढ़ना पड़ा। बिजली के अधिकारियों को ऊर्जा मंत्री ने आइना दिखा दिया। कंपनी प्रबंधन ने भोपाल से चंद्रकांत पवार, संपूर्णनानंद शुक्ला, केसी मिश्रा की तीन सदस्यीय कमेटी बनाई। इस कमेटी को ग्वालियर भेजा है। कमेटी ने डीडी नगर, हुरावली,, काल्पी ब्रिज, सिंधि कालोनी, सिकंदर कंपू, हुरावली, सीपी कालोनी के सब स्टेशन का निरीक्षण किया। यहां से निकलने वाले 11 केवी फीडरों की भी हालत देखी। शहर में सब स्टेशन व फीडरों का मेंटेनेंस ठीक से किया गया है या नहीं। इसकी भी पड़ताल की गई।

कमेटी ने यह जांच की

- सब स्टेशन पर रखे रजिस्ट्रर की जांच की। यहां पर कितना लोड रहा है। भविष्य में यदि इतना लोड आता है तो बिजली कितनी प्रभावित होगी।

- फ्यूज सही लगे हैं या नहीं।

- हाई टेंशन लाइनों पर पेड़ सही से काटे गए हैं या नहीं।

- ट्रांसफार्मर कितना ओवर लोड चल रहा है। इनका कूलिंग सिस्टम सही से बना है या नहीं।

- लाइन व सब स्टेशन की क्षमता बढ़ाने के प्रस्ताव भेजे गए हैं। जो पैसा खर्च किया जा रहा है, उसका उपयोग सही हो रहा है या नहीं। इसका जनता को कितना फायदा मिलेगा।

- इन तथ्यों की जांच कर रिपोर्ट कंपनी प्रंबधन को सौंपेगे। शहर की बिजली व्यवस्था सुधारने के लिए क्या नया किया जा सकता है, उसके सुझाव भी दिए जाएंगे।

सिंधि कालोनी में लगेगा अतिरिक्त पावर ट्रांसफार्मर

- सिंधी कालोनी का सब स्टेशन ओवर लोड चल रहा है। यह क्षेत्र ट्रिपिंग व फाल्ट से परेशान है। बिजली कंपनी ने यहां अतिरिक्त पावर ट्रांसफार्मर स्वीकृत किया है। 5 एमवीए पावर ट्रांसफार्मर को लगाने का वर्क आर्डर जारी कर दिया है। इसके लगने से लोड बंट जाएगा।

- कमेटी ने नया पावर ट्रांसफार्मर लगने से उपभोक्ताओं को कितना लाभ मिलेगा, इसके बारे में भी जानकारी ली।

वर्ड हिट सबसे बड़ा कारण

लाइनें पोड़ों के बीचे से होते हुए निकली हैं। इससे गिलहरियां पेड़ से तारों आती हैं। जब ये पोल के इंसुलेटर पर पहुंचती हैं तो लोहे से टकरा जाती हैं। इनसे अर्थिंग मिलने से इंसुलेटर बर्स्ट हो जाता है या फिर तार ही टूट जाते हैं। कमेटी को गिलहरियों से आने वाले फाल्ट को फोटो भी दिखाए।

- पक्षी भी इंसुलेटर पर बैठ रहे हैं। इनसे अर्थिंग मिल रही है। अर्थिग होने पर धमाके के साथ इंसुलेटर बर्स्ट हो जाते हैं।

- बर्ड हिट को रोकने के लिए नए बदलवा किया जा सकते हैं। इसके भी सुझाव दिए जाएंगे।

39 फीडर ट्रिपिंग के हाट स्पाट, पिछले साल की तुलना में दुगनी बार बंद हुए

शहर के 11 केवी के 39 फीडर ट्रिपिंग व फाल्ट के हाट स्पाट हो गए हैं। पिछले साल मई में 39 फीडरों पर मई 2020 में 363 ट्रिपिंग आई थी, लेकिन इस साल मई में ट्रिपंग का आंकड़ा 686 पहुंच गया है। जबकि 11 केवी फीडरों पर महीने में 10 से ज्यादा ट्रिपिंग नहीं आनी चाहिए, लेकिन आंकड़ा काफी अधिक है। इसको लेकर कंपनी प्रबंधन ने अधिकारियों को नोटिस जारी कर स्पष्टीकरण मांग लिया है। अधिकारी अपने स्पष्टीकरण में आंधी व वर्ड हिट को सबसे बड़ा कारण बता रहे हैं।

इनका कहना है

- जोन में नई व्यवस्था की जा रही है। एक इंजीनियर मेंटेनेंस का कार्य संभालेगा और एक इंजीनियर को राजस्व वसूली की जिम्मेदारी दी जाएगी। इससे मेंटेनेंस सही होगा। हर अधिकारी अलर्ट है। इससे स्थिति में सुधार आया है।

राजीव गुप्ता, मुख्य महाप्रबंधक ग्वालियर रीजन

Posted By: anil.tomar
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.