ग्वालियर: कचरा बाहर फेंका तो दरवाजे पर बजेगी रामधुन

Updated: | Thu, 02 Dec 2021 03:40 PM (IST)

ग्वालियर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। स्वच्छता रैंकिंग में पिछड़़ने के बाद नईदुनिया ने संवाद कार्यक्रम आयोजित कर जनप्रतिनिधि, अफसरों व जनता को एक साथ बैठाकर शहर को सफाई में अव्वल लाने के लिए मंथन किया। जिसकेबाद जिला प्रशासन और नगर निगम अधिकारियों ने बुधवार को एक बड़ी बैठक कर सफाई को लेकर महत्वपूर्ण निर्णय लिए। बैठक में निर्णय लिया गया कि नगर निगम एक दो दिन में सफाई की शिकायतों केलिए अपना हेल्पलाइन नंबर जारी करेगा। इस नंबर पर शिकायत आने के बाद कुछ ही घंटों में उसका निराकरण किया जाएगा। साथ ही लोगों के घरों से 100 प्रतिशत कचरा कलेक्शन किया जाएगा, यह कचरा अलग-अलग गीला, सूखा घरों से ही मिले, इसके लिए जनप्रतिनिधियों के साथ मिलकर पूरे शहर में अभियान चलाया जाएगा। स्वच्छता को लेकर नवाचार किया जाएगा। जिसमें कचरा फैलाने वालों के खिलाफ अब नन्हे मुन्नों की वानर सेना तैयार की जा रही है, जो कचरा फैलाने वाले लोगों के घरों के दरवाजे पर रामधुन बजाएगी।

सफाई व्यवस्था को लेकर कलेक्टर कौशलेंद्र विक्रम सिंह ने बुधवार को बैठक ली। बैठक में कलेक्टर ने स्वच्छता के प्रति नवाचार को सहमति दी। इसमें निर्णय लिया गया है कि जो भी कचरा फैलाएगा, उसके घर के बाहर रामधुन बजाई जाएगी। साथ ही नन्हे मुन्ने छात्रों की टीमों को तैयार किया जाएगा, जो कचरा फैलाने वालों को हतोत्साहित करेगी और लोगों को स्वच्छता की जानकारी देगी। साथ ही प्रत्येक गली-मोहल्ले में सूचना तंत्र विकसित किया जाएगा। जिससे पता चल सके कि कौन कचरा सड़क, गली-मोहल्ले में फेंक रहा है और कहां पर कचरा पड़ा है।

निगमायुक्त ने ये बताए बिंदु

- 100 प्रतिशत घरों से कचरा कलेक्शन करना।

- लोगों के घरों से ही गीला, सूखा कचरा अलग-अलग लेना।

- गंदगी फैलाने वालों के खिलाफ जुर्माने की कार्रवाई करना।

- खाली भूखंडों में कचरा फेंकने वालों पर कार्रवाई करना।

- कचरा संग्रहण वाहनों पर तिरपाल डालकर कचरा ले जाना।

- पार्षद, पूर्व पार्षद, विधायक, पूर्व विधायक आदि से जनजागरूकता की मदद लेना।

- हेल्पलाइन नंबर जारी करना, इस पर शिकायत आने के बाद तत्काल शिकायत का निराकरण करना।

- शहर में दिन में दो बार झाडू लगे।

- नालियों की नियमित सफाई हो।

- हर वार्ड, गली-मोहल्ले में सूचना तंत्र विकसित किया जाए।

सीएम हेल्पलाइन पर करनी पड़ रही हैं शिकायतें

शहर की सफाई व्यवस्था को सुधारने के लिए स्मार्ट सिटी में शुरू किया गया टोल फ्री नंबर 18002338138 अब लोगों के काम नहीं आ रहा है। इसके कारण लोगों को अपनी परेशानियों का हल कराने के लिए सीएम हेल्पलाइन का सहारा लेना पड़ रहा है। सीवर और साफ सफाई की 569 शिकायतें अभी तक लंबित पड़ी हैं। यह सभी शिकायतें नवंबर की हैं।

ऐसे होती है शिकायतों पर कार्रवाई

सफाई व्यवस्था को लेकर एल-1 पर एएचओ जिम्मेदार होता है। यदि सात दिन में शिकायत का निराकरण नहीं होता है तो यह शिकायत एल-2 हेल्थ आफिसर के पास पहुंच जाती है। यहां भी सात दिन में निराकरण नहीं होता है तो शिकायत एल-3 निगमायुक्त के पास पहुंचती है। यहां करीब 10 दिन का समय दिया जाता है। शिकायत का निराकरण नहीं होने पर यह शिकायत नगरीय प्रशासन के सीएम हेल्पलाइन को देखने वाले अधिकारी एल-4 के पास पहुंचती है। वहां से शिकायतकर्ता को फोन कर कारण पूछा जाता है। कारण संतोषजनक पाए जाने पर निगमायुक्त पर जुर्माना या कार्रवाई की जाती है।

हेल्पलाइन नंबर जारी किया जा रहा है, इससे सफाई व्यवस्था को सुधारने में मदद मिलेगी। साथ ही सीएम हेल्पलाइन की समस्या भी काफी हद तक कम हो जाएगी।

अतेंद्र सिंह गुर्जर, अपर आयुक्त स्वच्छता नगर निगम

Posted By: anil.tomar