Gwalior Weather Alert: बारिश थमी, रविवार को निकलेगी धूप, 22 से 26 के बीच फिर झमाझम

Updated: | Sat, 18 Sep 2021 07:30 PM (IST)

Gwalior Weather Alert: ग्वालियर. नईदुनिया प्रतिनिधि। बंगाली की खाड़ी से आया कम दबाव का क्षेत्र शहर में दो दिन बारिश करने के बाद राजस्थान की ओर निकल गया। इस कारण शनिवार को बारिश का दौर थम गया। 24 घंटे में 11.6 मिमी बारिश दर्ज की गई, लेकिन बारिश के चलते अधिकतम तापमान 30.1 डिसे रिकार्ड हुआ, जो सामान्य से 3.9 डिसे कम रहा। जिससे दिन में ठंडक का अहसास हुआ। मौसम विभाग के अनुसार 19 सितंबर को धूप निकलने लगेगी, लेकिन बंगाल की खाड़ी में चक्रवातीय घेरे के रूप में नया सिस्टम बना गया है। इस का असर 20 सितंबर से हलकी बारिस के रूप में दिखने लगेगा, लेकिन 22 से 26 सितंबर के बीच फिर से झमाझम के आसार बनेंगे। अच्छी बारिश दर्ज हो सकती है।

कम दबाव के क्षेत्र के चलते 16 सितंबर को दोपहर 1 बजे से बारिश की शुरुवात हुई थी। लगातार 48 घंटे तक रिमझिम बारिश का दौर चला और 55 मिमी बारिश दर्ज हुई। मौसम में ठंडक आ गई। शहरवासियों को उमस भरी गर्मी से राहत रही। कम दबाव का क्षेत्र राजस्थान की ओर गुजर जाने की वजह से शाम को आसमान साफ हो गया। धूप निकल आई। धूप के कारण अधिकमत तापमान 30.1 डिसे पर पहुंच गया, लेकिन सामान्य से रहने की वजह से उमस राहत रही।

आगे ऐसा रहेगा मौसम

-19 सितंबर को शहर में आसमान साफ रहेगा। धूप निकले, लेकिन गर्मी होने की वजह से कंही-कहीं गरज चकम के साथ बौछारें गिर सकती हैं।

- बंगाल की खाड़ी में चक्रवातीय घेरे के रूप में नया सिस्टम बन गया है। यह 19 सितंबर को उड़ीसा के ऊपर आ जाएगा, जिससे पूर्वी मध्य प्रदेश में हलकी बारिश शुरू हो जाएगी, लेकिन 20 सितंबर को इस सिस्टम का असर ग्वालियर चंबल संभाग में रहेगा।

- यह सिस्टम जैसे-जैसे आगे बढ़ेगा, वैसे वैसे मजबूत होगा। ग्वालियर में 21 से 23 सितंबर के बीच हलकी से मध्यम बारिश होगी, लेकिन 24 से 26 सितंबर के बीच तेज बारिश रहेगी। अच्छी बारिश का यह आखिरी दौर होगा।

अधिकतम तापमान-30.1 डिसे

न्यूनतम तापमान-23.6 डिसे

शहर की कुल औसत बारिश-659.4 मिमी

समय तापमान

05:30 24.8

08:30 25.4

11:30 27.0

14:30 28.4

17:30 28.8

इनका कहना है

कम दबाव का क्षेत्र राजस्थान की ओर निकल चुका है। इस कारण आसमान साफ हो गया है। ग्वालियर-चंबल में बारिश का नया दौर 24 से 26 सितंबर के बीच रहेगा। अच्छी बारिश दर्ज हो सकती है।

वेदप्रकाश सिंह, रडार प्रभारी मौसम केंद्र भोपाल

Posted By: anil.tomar