मिहिर भोज मूर्ति विवाद- पट्टिका को कपड़े से ढांकने पर गुर्जर समाज ने आधी रात तक मचाया उत्पात

Updated: | Sun, 26 Sep 2021 02:26 AM (IST)

- विरोध करने पहुंचे समाज के लोगों को पुलिस ने मूर्ति स्थल चिरवाई नाके से खदेड़ा, नेताओं को थाने ले आई

- करीब पांच सैकड़ा लोगों ने अडूपुरा तिराहे पर वाहनों को रोका, कट्टे और बंदूकें लहराई

- देर रात पुलिस कंट्रोल में एसपी के साथ हुई गुर्जर समाज के लोगों की बैठक

-----------

ग्वालियर नईदुनिया प्रतिनिधि

सम्राट मिहिर भोज की मूर्ति पर लगी पट्टिका को कपड़े से ढ़ांकने के हाईकोर्ट के फैसले से नाराज गुर्जर समाज के लोगों ने शनिवार शाम से आधी रात तक जमकर उत्पात मचाया। रात करीब आठ बजे पांच सैकड़ा से अधिक लोग चिरवाई नाका स्थित मूर्ति स्थल पर पहुंचे और नारेबाजी करने लगे। पुलिस ने उपद्रव की आशंका के चलते पूर्व में ही यहां भारी संख्या में पुलिस बल तैनात कर दिया था, जिसने भीड़ को खदेड़ दिया। पुलिस समाज के कुछ नेताओं को पकड़कर कंपू थाना ले आई। इससे गुस्साए समाज के लोगों ने मूर्ति स्थल से करीब 10 किलोमीटर दूर झांसी हाईवे के अडूपुरा तिराहे पर जाम लगा दिया। प्रत्यदर्शियों के मुताबिक उपद्रवी कट्टे और बंदूकें लहरा रहे थे। हर आने-जाने वाहन को वाहन को रोक रहे थे। रात करीब डेढ़ बजे पुलिस कंट्रोल रूम में हुई पुलिस प्रशासन और गुर्जर समाज की बैठक में जाम खुलवाने पर सहमति बन गई।

करीब एक माह पहले चिरवाई नाके पर स्थापित की गई मिहिर सम्राट मिहिर भोज की मूर्ति का अनावरण किया था। इस पर लगी पट्टिका को लेकर अगले ही दिन से विवाद शुरू हो गया। मामला हाईकोर्ट तक पहुंचा, जिसमें शनिवार को कोर्ट ने फैसला सुनाया कि विवाद को सुलझाने संभागायुक्त के नेतृत्व में कमेटी गठित की जाए। तब तक पट्टिका को ढक दिया जाए। कोर्ट के इस फैसले के बाद शनिवार शाम को गुर्जर समाज के लोग मूर्ति स्थल जुटना शुरू हो गए। उपद्रव की आशंका के चलते यहां सभी थानों का बल और थाना प्रभारियों को भेजा गया। विवाद न बढ़े इसके लिए पुलिस ने यहां से लोगों को खदेड़ना शुरू कर दिया। इसके साथ ही साहब सिंह गुर्जर सहित करीब दो दर्जन लोगों को पुलिस कंपू थाने ले आई।

आधी रात को कलेक्टर, एसपी पहुंचे मौके पर

विवाद की सूचना पर आधी रात को कलेक्टर कौशलेंद्र विक्रम सिंह और पुलिस अध्ाीक्षक अमित सांघी मूर्ति स्थल चिरवाई नाके पर पहुंचे। इधर अडूपुरा तिराहे पर उपद्रवियों को उत्पात चलता रहा। बाद में प्रशासन ने समाज के प्रतिनिधियों को चर्चा के लिए एसपी आफिस स्थित कंट्रोल रूम में बुलाया। रात करीब डेढ़ बजे तक चली बैठक में कलेक्टर ने बताया कि मूर्ति पट्टिका को कपड़े से नहीं ढंका जाएगा। मूर्ति स्थल के आसपास टिनशेड लगाया जाएगा। प्रशासन ने समाज के लोगों से अडूपुरा तिराहे से जाम खुलवाने की बात कही। करीब आधा घंटे तक चली बैठक में गुर्जर समाज के प्रतिनिधि इस पर राजी हो गए।

कथन-

यह बात सही है कि कोर्ट का निर्णय है, जो मानना चाहिए। ग्रामीण युवाओं ने जानकारी के अभाव में चक्काजाम किया है, जिसे हम जाकर खुलवा देंगे। हमारी बैठक चल रही थी, जिसमें कानूनी ढंग से लड़ाई लड़ने की योजना बना रहे थे मगर बीच से कुछ युवक निकल गए और हाइवे जाम कर दिया। हम उसका पूर्ण विरोध करते हैं, ऐसा नहीं होना चाहिए।

गिर्राज सिंह कक्कड़खेड़ा, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष, अभा गुर्जर महासभा

Posted By: Vikash Pandey