मंत्री सकलेचा का दावा- 25 दिसंबर तक लगा देंगे ग्वालियर व्यापार मेला

Updated: | Thu, 02 Dec 2021 03:13 PM (IST)

ग्वालियर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। हर साल दिसंबर की शुरुआत होने से पहले ही ग्वालियर व्यापार मेला को लेकर तैयारियां जोर पकड़ लेती थीं। 2020-21 के बाद इस साल भी दिसंबर में मेले की तैयारियों का आगाज नहीं हुआ है। हालांकि नईदुनिया से बातचीत में एमएसएमई मंत्री ओमप्रकाश सकलेचा ने दावा किया है कि 25 दिसंबर तक मेला लगा दिया जाएगा। इस साल कोरोना को लेकर ऐसे हालात नहीं हैं कि मेला स्थिगित करने की नौबत हो। मंत्री का कहना है छह दिसंबर को ग्वालियर आएंगे, सात को मेला प्राधिकरण बोर्ड की बैठक लेंगे। इसमें मेला आयोजन के संबंध में रूपरेखा तैयार की जाएगी।

प्रशासन चाहे तो 15 दिन बहुत, छोटे व्यापारी बैठे हैं तैयार

श्रीमंत माधवराव सिंधिया ग्वालियर व्यापार मेला व्यापारी संघ के अध्यक्ष महेंद्र भदकारिया का कहना है अगर शासन-प्रशासन चाहे तो मेले की तैयारियां 15 दिन में पूरी हो सकती हैं। हजारों छोटे दुकानदारों को सालभर मेले का इंतजार रहता है, वे तैयार बैठे हैं। घोषणा होते ही वे मेले में अपनी दुकानें लगाना शुरू कर देंगे, झूले भी चालू हो जाएंगे। केवल इलेक्ट्रानिक्स व आटोमोबाइल सेक्टर में शोरूम बनने में देरी होती है। मेला मैदान में कोरोनाकाल के दौरान अस्थाई सब्जी मंडी बनाई थी। इस कारण बड़ी संख्या में भारी वाहन मेला मैदान में आए। मेले में बनी दुकानें व छत्रियां छतिग्रस्त हैं, सड़कें खुद गई हैं, जिसे जल्द दुरुस्त किया जाना चाहिए। मैदान में सफाई प्राथमिक रूप से शुरू हो गई है। इसके लिए हमने केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया एवं नरेंद्र सिंह तोमर आदि को ज्ञापन भी सौंपे थे।

पिछले साल: 15 फरवरी से लगा मेला, 18 दिन पहले निरस्त

गौरतलब है पिछले साल ग्वालियर व्यापार मेला कोरोना के कारण 49 दिन देरी से मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की घोषणा के बाद 15 फरवरी से लगा था। मगर तयशुदा अवधि 15 अप्रैल से 18 दिन पहले ही 28 मार्च को कोरोना के कारण मेला को निरस्त (समाप्त) कर दिया गया। बदले मौसम व अन्य तमाम परेशानियों के बाद भी व्यापारियों ने आनन-फानन में मेला में दुकानें लगाईं थीं। मगर कोरोना के कारण समय से पहले ही उन्हें दुकानें हटानी पड़ीं, जिससे उन्हें काफी नुकसान झेलना पड़ा। खास बात यह है कि देरी से मेला शुरू होने व जल्दी समाप्त होने के बाद भी करीब 850 करोड़ रुपये का व्यापार ग्वालियर व्यापार मेले में हुआ था। वहीं इससे पहले वर्ष 2019-20 में आयोजित व्यापार मेला में 1100 करोड़ से अधिक का कारोबार हुआ था।

17 दिन में हो पाएगा शुभारंभ!

सात दिसंबर के बाद अगर मेला आयोजन की तैयारी शुरू की जाती है तो 25 दिसंबर तक मेला पूर्ण रूप से लग पाना व्यवहारिक रूप से संभव नहीं है। वजह, पार्किंग, लाइटिंग, टेंट, सफाई, दुकान निर्माण एवं सुरक्षा व्यवस्था समेत 10 से अधिक कामों के टेंडर होते हैं। टेंडरिंग की यह प्रक्रिया मेला शुभारंभ से डेढ़-दो महीने पहले से शुरू हो जाती है। यही नहीं मेला शुभारंभ के बाद भी तैयारियां चलती रहती हैं।

Posted By: anil.tomar