ग्‍वालियर में सिर्फ आदेश ही था- नहीं मिल रहे शराब दुकानों पर बिल

Updated: | Mon, 29 Nov 2021 10:30 AM (IST)

-एक सितंबर से हर ग्राहक को शराब का बिल दिए जाने की व्यवस्था चौपट, मनमाने दामों पर शराब बिक्री फिर शुरू

-शहर में हाइवों पर चेकिंग और शहर में हर होटल बना अवैध अहाता

ग्वालियर. नईदुनिया प्रतिनिधि। एक सितंबर से शराब की दुकानों पर हर ग्राहक को बिल दिए जाने की सुविधा तो शुरू हुई लेकिन पूरी तरह अमल में नहीं आ सकी। पीक टाइम पर बडे शराब दुकानदार मनमानी करते हैं और ग्राहकों को टरका रहे हैं, आबकारी के सर्किल इंस्पेक्टर और संभागीय उडनदस्ता क्या कर रहा है, पता नहीं। वहीं यह कि शराब के मनमाने दामों पर न पहले कंट्रोल था न अब हो सका है। शराब दुकानदार एमआरपी से ज्यादा दामों पर शराब बेच रहे हैं। हकीकत में इन हालातों के बाद भी जिला कंट्रोलर का दावा है कि सब कंट्रोल में है।

ऐसे चल रहा मनमानी-सांठगांठ का खेल

1-अवैध अहाते

हाइवे और ग्रामीण एरिया में कभी कभी कच्ची शराब व बनाने का सामान पकडने वाले आबकारी विभाग की टीम का शहर में रात के समय होटलों में चलने वाले अवैध अहातों पर ध्यान नहीं है। यह कारोबार जमकर फलफूल रहा है, शहर से सटे ढाबों व छोटे बडे होटलों में बुरे हालात हैं। लंबे समय से शहर में कोई छापेमारी नहीं हुई है।

2-बिल

आबकारी आयुक्त ने आदेश दिए थे कि प्रदेश में एक सितंबर से दुकानों पर शराब का बिल दिया जाएगा। बिल बुक रखे गए और शुरू में पालन भी दिखा लेकिन अब सब बेपटरी हो गया है। पीक समय पर बडी और छोटी शराब दुकानों पर बिल नहीं दिया जा रहा है। ग्राहक लगातार शिकायत कर रहे हैं।

3-मनमाने दाम

शराब का बिल दिए जाने की व्यवस्था का मकसद मनमाने दाम पर अंकुश लगाना था लेकिन अब फिर एमआरपी रेट से ज्यादा पर बेचने की शिकायतें सामने आने लगी हैं। आबकारी विभाग की टीम को भी लोग शिकायत कर रहे हैं।

Posted By: anil.tomar