बाघ गणना एप से होगी इसलिए तकनीक फ्रेंडली फारेस्ट गार्डाें को तवज्जो

Updated: | Sat, 27 Nov 2021 07:45 AM (IST)

ग्वालियर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। राष्ट्रीय बाघ गणना 2021 के तहत ग्वालियर वनमंडल में भी अगले माह दिसंबर में बाघ गणना की जाएगी। इस बार एप के माध्यम से बाघ गणना हो रही है इसलिए विभाग ने ऐसे फारेस्ट गार्डों को तवज्जो दी है जो तकनीक फ्रेंडली और नए भर्ती हुए हैं। ग्वालियर में जिले में बाघ की मौजूदगी नहीं है, लेकिन आकलन के आधार पर गणना होती है इसलिए इस आनलाइन सर्वे में हर जानवर, निशान से लेकर पूरी परिस्थितियों को शामिल किया जाता है। ग्वालियर में 17 दिसंबर से बाघ गणना शुरू होगी जो छह दिन तक चलेगी। ग्वालियर जिले में 1564 वर्ग किमी का जंगल है जिसे कवर किया जाएगा। जिले में कुल 104 बीटें हैं।

ज्ञात रहे कि राष्ट्रीय बाघ गणना के तहत इस बार पहली बार एप का उपयोग किया जा रहा है। इसी कड़ी में ग्वालियर में हाल ही में बाघ गणना के लिए फारेस्ट गार्डों को प्रशिक्षण दिया गया है। इस प्रशिक्षण में आनलाइन गणना को लेकर एक्सपर्ट टीम ने प्रशिक्षण दिया है। कुछ समय पहले ही वन विभाग में भर्ती हुए और तकनीकी तौर पर थोड़ा ठीक काम करने वाले जवानों को इस सर्वे में प्राथमिकता से लिया गया है। इसके साथ ही ग्वालियर जिले के वनमंडल की हर बीट से स्टाफ को शामिल किया गया है।

ऐसे होगा सर्वे

इसके लिए मोबाइल ही उपयोग किया जाएगा जो कि एंड्रायड वर्जन का होगा। इसमें एम स्ट्राइप एप को लोड करने के बाद पूरे फार्मेट के आधार पर डाटा लिया जाएगा। अभी तक होने वाली गणना में पेपर पर फार्मेट दिए जाते थे जिसे स्टाफ भरता था, लेकिन अब एप में सारे विकल्प शामिल किए गए हैं। जिसके आधार पर सभी तरह के जानवर, पग मार्क, अन्य संबंधित मार्क, फोटो आदि लिए जाएंगे। आकलन के आधार पर गणना को अंतिम रूप दिया जाता है।

वर्जन

राष्ट्रीय बाघ गणना की शुरुआत 17 दिसंबर से की जाएगी। यह छह दिन तक चलेगी। तकनीकी तौर पर फ्रेंडली जवानों को इसमें शामिल किया गया है। सभी बीटों के स्टाफ इसमें कार्य करेंगे। प्रशिक्षण दे दिया गया है।

बृजेंद्र श्रीवास्तव, डीएफओ, ग्वालियर

Posted By: anil.tomar