Indore News: 99 करोड़ बकाया, नेशनल स्टील कंपनी का बिजली कनेक्शन काटा, बैंक खाते फ्रीज

Updated: | Wed, 28 Jul 2021 09:07 PM (IST)

इंदौर, नईदुनिया प्रतिनिधि Indore News। मध्यप्रदेश पश्चिम क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी ने बकाया राशि वसूली को लेकर अब तक की सबसे बड़ी कार्रवाई को मंगलवार को अंजाम दिया। लेबड़ औद्योगिक क्षेत्र स्थित इस्पात कंपनी नेशल स्टील लिमिटेड का उच्चदाब बिजली कनेक्शन काट दिया गया। बिजली कंपनी ने स्टील कंपनी से 99 करोड़ 17 लाख रुपयेे की बकाया वसूली के लिए यह कार्रवाई की। छह वर्षों से बिजली कंपनी और स्टील कंपनी के बीच बकाया बिल को लेकर कानूनी विवाद चल रहा था। एक दिन पहले सोमवार को ही कोर्ट ने स्टील कंपनी की राहत की अपील खारिज कर दी। इससे बाद बिजली कंपनी के अधीक्षण यंत्री (ग्रामीण) ध्रुवनारायण शर्मा ने धार कलेक्टर से तुरत-फुरत आरआरसी मंजूर करवाते हुए मंगलवार को कार्रवाई को अंजाम दे दिया।

अब तक नेशनल स्टील कंपनी में प्लांट चल रहा था और उत्पादन जारी था। मंगलवार को घाटा बिल्लौद ग्रिड से कंपनी के साथ ही कर्मचारियों के लिए बनी कालोनी का भी कनेक्शन काट दिया। काटे गए कनेक्शन को अधिकारियों और स्टील कंपनी के एक प्रतिनिधि की मौजूदगी मेें सील भी कर दिया गया। इससे कंपनी में बिजली आपूर्ति रुकने के साथ ही उत्पादन भी ठप पड़ गया। मध्यप्रदेश पश्चिम क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी के इंदौर ग्रामीण अधीक्षण यंत्री ध्रुवनारायण शर्मा ने बताया कि विद्युत चोरी, अनाधिकृत उपयोग आदि को लेकर नेशनल स्टील घाटा बिल्लौद का करीब छह वर्ष पहले प्रकरण बनाया था। तब कंपनी को बिजली चोरी व अनियमितता के लिए करीब 49 लाख रुपये का बिल दिया गया था।

कंपनी ने बिल जमा नहीं किया व कोर्ट की शरण ली। इन छह वर्षों में स्टील कंपनी ने निचली अदालत से लेकर सुप्रीम कोर्ट तक केस लड़ा। सुप्रीम कोर्ट पहले ही बिजली कंपनी के पक्ष में निर्णय सुना चुका था। इस बीच कंपनी फिर से हाई कोर्ट पहुंच गई। किसी एक बिंदु को लेकर हाई कोर्ट ने फिर से याचिका दायर की। कोरोना के कारण बीते समय से सुनवाई अटकती रही। 27 जुलाई को हाई कोर्ट इंदौर खंडपीठ ने निर्णय सुनाते हुए स्टील कंपनी को राहत देने से इनकार कर दिया। प्रबंध निदेशक अमित तोमर के निर्देश पर ग्रामीण अधीक्षण यंत्री ने इंजीनियरों की टीम भेजी।

कार्यालय यंत्री टीसी चतुर्वेदी के साथ पदेन तहसीलदार चंद्रशेखर झा, वितरण केंद्र प्रभारी संजीव कुमार आदि ने घाटा बिल्लौद पहुंचकर नेशनल स्टील की फैक्ट्री और कॉलोनी का कनेक्शन 33 केवी ग्रिड से विच्छेदित किया। इसके साथ नेशनल स्टील के बैंक ऑफ महाराष्ट्र, बैंक ऑफ इंडिया शाखा में स्थित खाते भी फ्रीज किए गए हैं। हालांकि बैंक खातों में सिर्फ तीन करोड़ रुपये की राशि का ही पता चला है।

पुराने मूल बिल के साथ ब्याज जुड़ते हुए बिल का आंकड़ा अब 99 करोड़ के पार पहुंच गया है। सूत्रों के मुताबिक स्टील कंपनी ने बिजली के बकाया को किस्तों में चुकाने की बात कही लेकिन बिजली कंपनी ने अब पूरा रुपया एकमुश्त जमा करने की बात कहते हुए राहत देने से फिलहाल इनकार कर दिया है।

Posted By: Sameer Deshpande