यूजी-पीजी कोर्स में प्रवेश बंद, रिक्त सीटों का कालेजों को कल तक देना है ब्यौरा

Updated: | Tue, 30 Nov 2021 11:17 AM (IST)

इंदौर, नईदुनिया प्रतिनिधि। प्रदेशभर के कालेजों में स्नातक और स्नातकोत्तर पाठ्यक्रम में आनलाइन व आफलाइन काउंसलिंग की प्रक्रिया खत्म हो गई है। अब कालेजों को रिक्त सीटों का ब्यौरा एक दिसंबर तक उच्च शिक्षा विभाग को देना है। साथ ही प्रवेश ले चुके विद्यार्थियों का डाटा भी भेजना है, जिसमें पाठ्यक्रम के अनुसार छात्रों की संख्या, मोबाइल नंबर, दस्तावेज की जानकारी शामिल है। उधर विश्वविद्यालय को छात्रों का डाटा मिलने के बाद नामांकन की प्रक्रिया शुरू करने के निर्देश दिए हैं।

केंद्र सरकार ने संक्रमण को देखते हुए प्रवेश प्रक्रिया 30 नवंबर तक पूरी करने को कहा था। उसके आधार पर विभाग ने 29 नवंबर तक आनलाइन-आफलाइन काउंसलिंग चलाई है। अगस्त से नवंबर के बीच चल काउंसलिंग में छह चरण हुए है। देवी अहिल्या विश्वविद्यालय (डीएवीवी) के दायरे में आने वाले 220 कालेज में विद्यार्थियों को आनलाइन प्रवेश दिया है जबकि 40 अल्पसंख्यक कालेजों में छात्र-छात्राओं ने सीधे दाखिला लिया है। नई शिक्षा नीति लागू हो चुकी है। सरकारी कालेजों में इस साल विद्यार्थियों ने खासी रुचि दिखाई है। यहीं वजह है कि इन कालेजों में ज्यादा प्रवेश हुए है। महज 6-8 प्रतिशत सीटें रिक्त है। निजी कालेज की स्थिति काफी अच्छी नहीं है। 18-22 प्रतिशत अलग-अलग कोर्स में सीटें खाली रह गई है।

विभाग ने एक दिसंबर तक प्रवेश ले चुके विद्यार्थी और रिक्त सीटों का ब्यौरा मांगा है। यह जानकारी आनलाइन और आफलाइन प्रवेश देने वाले सभी कालेजों को देना अनिवार्य है। समय पर डाटा नहीं भेजने वाले के खिलाफ विभाग ने कार्रवाई की बात कहीं है। अधिकारियों के मुताबिक कालेजों में प्रवेश लेने वाले विद्यार्थियों का डाटा विश्वविद्यालय को देना है ताकि नामांकन की प्रक्रिया शुरू हो सके। 20 दिसंबर तक छात्र-छात्राओं का नामांकन करना जरूरी है।

Posted By: gajendra.nagar