Bribery Indore News: भू-माफिया की गोद में बैठे हैं वर्षों से जमे सहकारी निरीक्षक, तबादला हुआ तो स्टे लेकर बैठे

Updated: | Fri, 24 Sep 2021 08:58 AM (IST)

इंदौर, नईदुनिया प्रतिनिधि, Bribery Indore News। सहकारिता विभाग में कुछ सहकारी निरीक्षक और आडिटर ऐसे हैं जो न केवल वर्षों से इंदौर में जमे हैं, बल्कि भू-माफिया की गोद में भी बैठे हुए हैं। जब-जब इनका तबादला जिले से बाहर किया गया, यह या तो नेताओं और बड़े अफसरों की सिफारिश से तबादला निरस्त करवा लेते हैं। या फिर कोर्ट से स्टे लेकर बैठ जाते हैं। तबादला रद कराने के बाद यह निरीक्षक और आडिटर फिर बेखौफ होकर लेनदेन में जुट जाते हैं।

लोकायुक्त पुलिस द्वारा वरिष्ठ सहकारी निरीक्षक संतोष जोशी को रिश्वत लेते पकड़ने से यह हकीकत सामने आई है। दो महीने पहले ही वरिष्ठ सहकारी निरीक्षक प्रमोद तोमर भी रिश्वत लेते पकड़े गए थे। पिछले महीने ही जोशी का तबादला सीधी और तोमर को उमरिया भेजा गया था लेकिन दोनों ने हाईकोर्ट से स्टे लेकर तबादला रुकवाया हुआ है। जोशी लंबे समय से इंदौर सहकारिता उपायुक्त कार्यालय में पदस्थ हैं। वर्ष 2009-10 में जब सहकारी गृह निर्माण संस्थाओं में जमे भू-माफिया के खिलाफ अभियान चला तो विभाग ने कई सहकारी अधिकारियों के तबादले किए थे। उस समय जोशी का तबादला खरगोन कर दिया गया था। वर्ष 2012 में जोशी फिर इंदौर आ गए। तबसे वे यहीं हैं। पिछले महीने इंदौर से 11 सहकारी निरीक्षकों और आडिटरों के तबादले हुए थे जिसमें जोशी भी शामिल थे। उल्लेखनीय है कि जोशी करीब 14 महीने बाद नवंबर 2022 में सेवानिवृत्त होने वाले हैं। सेवानिवृत्ति के नजदीक आते-आते वे रिश्वत लेते हुए पकड़े गए।


उर्जा विभाग के अधीक्षण यंत्री की बेटी के घर पहुंची लोकायुक्त

लोकायुक्त पुलिस भोपाल द्वारा बुधवार को एक लाख की रिश्वत लेते पकड़े गए उर्जा विभाग अधीक्षण यंत्री एपीएस जादौन की बेटी के इंदौर स्थित निवास पर सर्च की कार्रवाई की। यहां पर टीम को दस्तावेज नहीं मिले हैं। डीएसपी एसएस यादव ने बताया कि सूचना के बाद हमारी टीम जादौन की बेटी के बिचौली रोड़ पर परिणय होम में मौजूद फ्लैट में पहुंची थी। बेटी यहां पर रह कर पढ़ाई कर रही है। इसकी सूचना भोपाल लोकायुक्त को दे दी गई है। पकड़ाने के बाद उसके खिलाफ आय से अधिक संपत्ति की जांच भी की जा रही है।

Posted By: gajendra.nagar