जननायक टंट्या भील के बलिदान दिवस पर इंदौर में आज समारोह, देर रात शहर पहुंचा गौरव कलश रथ

Updated: | Sat, 04 Dec 2021 09:05 AM (IST)

इंदौर, नईदुनिया प्रतिनिधि। जननायक टंट्या मामा भील का बलिदान दिवस चार दिसंबर को उत्साह से मनाया जाएगा। शुक्रवार देर रात टंट्या मामा गौरव कलश रथ यात्रा इंदौर के राजवाड़ा पहुंची, जहां सभी का भव्य स्वागत किया गया। इस दौरान जनप्रतिनिधि ने भी आदिवासी कलाकारों के साथ जमकर नृत्य किया। आज जिले में विभिन्न कार्यक्रम किए जाएंगे। मुख्य कार्यक्रम शहर के नेहरू स्टेडियम में होगा। साथ ही पातालपानी में टंट्या भील की कांस्य प्रतिमा का अनावरण भी किया जाएगाा। दोनों कार्यक्रम में राज्यपाल मंगु भाई पटेल और मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान विशेष रूप से मौजूद रहेंगे। सीएम शिवराज सिंह चौहान ने ट्वीट कर लिखा, मातृभूमि की स्वतंत्रता और अपनी संस्कृति एवं परंपराओं की रक्षा के लिए अपने प्राणों की आहुति देने वाले जनजातीय नायक मामा टंट्या भील जी के बलिदान दिवस पर उनके चरणों में विनम्र श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं। गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने लिखा, जननायक और अमर क्रांतिकारी भगवान टंट्या भील को उनके बलिदान दिवस पर कोटिश: नमन।मातृभूमि की स्वाधीनता के लिए उनका सर्वोच्च बलिदान, संघर्ष और राष्ट्रप्रेम की अनूठी मिसाल है।

पातालपानी में दोपहर 12 बजे राज्यपाल, मुख्यमंत्री, गृह मंत्री डा. नरोत्तम मिश्रा, जल संसाधन मंत्री तुलसीराम सिलावट, संस्कृति एवं पर्यटन मंत्री उषा ठाकुर, जनजाति कल्याण मंत्री मीनासिंह सहित अन्य जनप्रतिनिधि टंट्या मामा स्मारक स्थल पर कांस्य प्रतिमा का अनावरण करेंगे। सभी अतिथि टंट्या मामा मंदिर पहुंचकर पूजा-अर्चना कर मंदिर परिसर में पौधारोपण भी करेंगे। पातालपानी में ही मंचीय कार्यक्रम के दौरान राज्यपाल और मुख्यमंत्री वनवासी बंधुओं को संबोधित करेंगे। इसके बाद राज्यपाल, मुख्यमंत्री और सभी जनप्रतिनिधि नेहरू स्टेडियम पहुंचेंगे। यहां वे टंट्या मामा के जीवनकाल पर आधारित प्रदर्शनी का अवलोकन करेंगे।

इसके बाद टंट्या मामा गौरव कलश रथ और टंट्या मामा के वंशजों का मुख्यमंत्री स्वागत करेंगे। यहां मुख्य कार्यक्रम में सांस्कृतिक कार्यक्रम भी होंगे। टंट्या भील के वंशजों का सम्मान भी किया जाएगा। खंडवा जिले के बड़ौदा अहीर और रतलाम जिले से निकली यात्राएं 4 दिसंबर को भी इंदौर में रहेंगी। इस दिन भंवरकुआं चौराहे का नया नाम टंट्या भील चौराहा रखा जाएगा। मुख्य कार्यक्रम स्थल पर प्रात: 11 बजे से टंट्या भील पर केंद्रित टेलीफिल्म का प्रदर्शन किया जाएगा। इसके बाद स्वतंत्रता संग्राम के रणबांकुरे, राजा शंकर शाह-कुंवर रघुनाथ और टंट्या भील पर केंद्रित लघु फिल्म का प्रदर्शन किया जाएगा। इसके बाद सुबह 11.50 बजे से अलाउद्दीन खां संगीत अकादमी द्वारा टंट्या भील पर आधारित नृत्य नाटिका का प्रस्तुतिकरण किया जाएगा। दोपहर 12.30 बजे राज्यपाल और मुख्यमंत्री का पातालपानी हेलीपैड पर आगमन होगा। मुख्य कार्यक्रम के लिए नेहरू स्टेडियम में व्यापक व्यवस्थाएं की गई हैं। स्टेडियम में विशाल मंच बनाया गया है।

Posted By: gajendra.nagar