DAVV Indore: अफसर की टेबल पर सात दिन से ज्यादा फाइल अटकी तो बताना होगा कारण

Updated: | Sat, 25 Sep 2021 09:23 AM (IST)

इंदौर, नईदुनिया प्रतिनिधि, DAVV Indore। फाइलों को बेवजह रोकना अब देवी अहिल्या विश्वविद्यालय (डीएवीवी) के अफसरों को भारी पड़ने वाला है। शुक्रवार को कार्यपरिषद में एक अहम फैसला लिया गया। पेंडिंग फाइलों को लेकर सदस्यों ने यह कदम उठाया है। सात दिन से ज्यादा फाइल रोकने पर पहले अफसरों को कारण बताना पड़ेगा। फिर फाइल आगे बढ़ाई जाएगी। यह निर्देश अगले सप्ताह से लागू किया जाएगा। वहीं अफसरों को फाइल का अपडेट भी देना होगा। बाकायदा इसकी निगरानी कुलपति डा. रेणु जैन को सौंपी है।

शुक्रवार को कार्यपरिषद की बैठक से पहले सदस्यों ने छात्रनेता-कर्मचारी संघ के पदाधिकारियों से मुलाकात की। सूत्रों के मुताबिक कर्मचारियों से जुड़ी समस्या को लेकर पदाधिकारियों ने शिकायत की और कहा कि कर्मचारियों से जुड़ी फाइलें महीनों तक अफसरों की टेबल पर पड़ी रहती है। समस्या का समाधान करने की बजाय अफसर प्रकरण अटकने में ज्यादा दिलचस्पी लेते हैं।

बैठक शुरू होने के बाद कार्यपरिषद सदस्य डा. मंगल मिश्र ने कहा कि तीन दिन से ज्यादा फाइल रोकने पर पहले अफसरों को वजह बताना होगी। मगर कुछ सदस्य इस पर राजी नहीं हुए तो उन्होंने कहा कि तीन की बजाय सात दिन का समय फाइल को स्वीकृत करने के लिए रखा जाए। बाकी सदस्यों ने कहा कि सात दिन बाद अफसरों को पहले लिखित में कारण बताना होगा। उसके बाद ही फाइल दूसरे विभाग को भेजी जाएगी। प्रत्येक सप्ताह फाइलों की स्थिति सार्वजनिक करना होगी। मामले में सदस्यों ने तीन महीने में फाइलों की समीक्षा करने के निर्देश भी दिए।

Posted By: gajendra.nagar