HamburgerMenuButton

Fruits Rate Indore: नागपुर तो दूर शाजापुर-सारंगपुर का संतरा भी नहीं पहुंचा बाजार में

Updated: | Sun, 18 Apr 2021 02:03 PM (IST)

कपिल नीले, इंदौर Fruits Rate Indore। करोना संक्रमण से बचने के लिए सबसे फायदेमंद फल संतरा इस साल फ्रूट मार्केट से गायब है। कारण है लाकडाउन के चलते महाराष्ट्र की सीमाएं सील होना। इसी कारण नागपुर से आने वाले विटामिन-सी से भरपूर संतरे की कमी है। यहां तक कि इस बार शाजापुर, सारंगपुर, पचोर, अकोदिया मंडी व शुजालपुर से भी फल नहीं आया है। फल विक्रेता अब कोल्ड स्टोरेज में रखा संतरा मनचाहे दामों पर बेच रहे हैं। उधर, बाकी फलों की कीमतों में भी भारी इजाफा हो गया है।

नंदलालपुरा फ्रूट मार्केट के विक्रेता योगेश पचौरी ने बताया बुराहनपुर-बैतुल और पांढुर्ना मार्ग से नागपुर व आसपास का संतरा प्रदेश की मंडियों में पहुंचता है। मगर महाराष्ट्र में कोरोना संक्रमण बढ़ने से मार्च तीसरे सप्ताह से ही सीमाएं सील हैं। इससे संतरे की आवक पर असर पड़ा है। अप्रैल के पहले सप्ताह में प्रदेश के कई हिस्सों में लाकडाउन लगाने से शाजापुर, सारंगपुर, पचोर और अकोदिया मंडी से भी संतरा नहीं आया।

विक्रेता श्याम कुशवाह ने बताया प्रदेश में संतरे की कम पैदावार हुई है। कोल्ड स्टोरेज का संतरा कुछ दुकानदारों ने रखा है, जो थोक में 150 से 160 रुपये किलो मिल रहा है, जिसे खेरची मार्केट में 200-220 रुपये किलो बेचा जा रहा है।

रमजान-नवरात्र से भी बढ़े दाम

मालवा मिल फ्रूट मार्केट के विक्रेता निलेश शर्मा ने बताया लाकडाउन के अलावा रमजान और नवरात्र एक साथ आने से भी फलों की कीमतों में इजाफा हुआ है। इन दिनों रोजा छोड़ने के लिए मुस्लिम समुदाय के लोग प्रतिदिन फल खरीद रहे हैं, जिसमें पपीता, तरबूज, खरबूजा शामिल है। थोक बाजार में तरबूज 10-12, पपीता 35 और खरबूजा 25 रुपये किलो में व्यापारियों को मिल रहा है। खेरची मार्केट में पहुंचने तक इसमें दस से पंद्रह रुपए किलो का इजाफा हो जाता है। इस साल पपीता की आवक भी बहुत कम है।

नारियल के दामों में मनमानी

बाकी फलों की तुलना में नारियल-तरबूज से फ्रूट मार्केट भरा है। इनके दाम भी व्यापारियों ने मनमाफिक तय कर रखे हैं। बढ़ती गर्मी और संक्रमण की वजह से व्यापारी नारियल मनचाहे दामों पर बेच रहे हैं। थोक बाजार में नारियल 20 रुपये प्रति नग है, तो खेरची में एक नारियल 50-60 रुपये में बिक रहा है। अस्पतालों के आसपास तो फल विक्रेता 80 रुपये प्रति नग तक वसूल रहे हैं।

Posted By: Sameer Deshpande
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.