HamburgerMenuButton

शेल्टर होम के रजिस्ट्रेशन को लेकर वन विभाग लिखेगा नगर निगम को पत्र

Updated: | Thu, 24 Jun 2021 11:00 AM (IST)

इंदौर, नईदुनिया प्रतिनिधि। डोमेस्टिक पैट यानी घरेलू जानवर की देखरेख और इलाज करवाने वाले एनजीओ पर सख्ती करने की तैयारी चल रही है। अब ऐसे शेल्टर होम के बारे में जानकारी जुटाई जा रही है। इसके लिए वन विभाग अगले कुछ दिनों में नगर निगम को पत्र लिख सकता है और एनजीओ के रजिस्ट्रेशन व अन्य दस्तावेज मांग सकती है। अधिकारियों के मुताबिक कई एनजीओ बगैर रजिस्ट्रेशन के संचालित हो रहे हैं।

बुधवार को एनिमल वेलफेयर सोसायटी के विजय नगर स्थित डाग शेल्टर होम से वन विभाग को उल्लू का शव मिला। शिकायतकर्ता ने आरोप लगाया था कि बगैर विभाग को सूचना दिए एनजीओ ने उल्लू को रखा। इलाज किया और मरने के बाद परिसर में दफना दिया। मामले में इंदौर के रेंजर जयवीर सिंह जांच करने में जुटे हैं। इसके चलते अब विभाग शहरभर के ऐसे एनजीओ और उनके शेल्टर होम की जानकारी लेने जा रहा है ताकि बिना रजिस्ट्रेशन वाले एनजीओ पर कार्रवाई जाएगी। अधिकारियों के मुताबिक डोमेस्टिक जानवर वाले एनजीओ वन विभाग के दायरे में नहीं आते है। मगर विजय नगर शेल्टर होम में वन्यप्राणी का इलाज चल रहा था, जो पूरी तरह से गलत है। एनजीओ की लापरवाही से एक वन्यप्राणी का जान चल गई है। अगर एनजीओ सही समय पर विभाग को सूचित करता तो सही दिशा में इलाज हो सकता है। रेंजर सिंह का कहना है कि जानवरों के क्षेत्र में काम करने वाले एनजीओ की जानकारी जुटा रहे हैं ताकि वहां की गतिविधियों के बारे में पता चल सके। इसके लिए नगर निगम को पत्र लिखकर जानकारी लेंगे। फिर वरिष्ठ अधिकारियों के सामने दस्तावेजों को रखा जाएगा।

Posted By: gajendra.nagar
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.