HamburgerMenuButton

Indore Regal Tiraha: इंदौर में रीगल तिराहे पर बनेगा फोरलेन फ्लाईओवर

Updated: | Sun, 07 Mar 2021 09:11 AM (IST)

अभिषेक चेंडके, इंदौर, Indore Regal Tiraha। इंदौर शहर के एमजी रोड पर यातायात के बढ़ते दबाव को कम करने के लिए एक और फ्लाईओवर बनाने की योजना तैयार हुई है। आजादी के बाद इस मार्ग पर यह दूसरा बड़ा फ्लाईओवर बनने जा रहा है। इससे पहले रीगल तिराहे पर शास्त्री ब्रिज का निर्माण हुआ था, जो अभी भी काफी मजबूत है। नए ब्रिज का निर्माण आइडीए करेगा। करीब एक किलोमीटर लंबा यह फ्लाईओवर फोरलेन होगा। इसके लिए आइडीए फिजिबिलिटी सर्वे करवा रहा है। रीगल तिराहे पर दिनभर यातायात का भारी दबाव रहता है। कई बार यहां जाम की स्थिति भी बन जाती है। यहां लंबे समय से दूसरे फ्लाईओवर की जरूरत महसूस हो रही है। यहां जो फ्लाईओवर प्रस्तावित है, वह घुमावदार रहेगा। महापौर सचिवालय रोड के समीप से ब्रिज की शुरुआत होगी। इसकी दूसरी भुजा आरएनटी मार्ग के नालंदा परिसर तक बनेगी। ब्रिज के नीचे की लेन में भी ट्रैफिक चलता रहेगा।

मेट्रो रूट भी है इसी सड़क पर

मेट्रो रेल प्रोजेक्ट के पहले चरण में जो रूट तय किया गया है, उसमें भी महात्मा गांधी मार्ग शामिल है। हाई कोर्ट तिराहे से रीगल तिराहे के बीच एक मेट्रो स्टेशन भी बनना है। फ्लाईओवर की प्लानिंग में मेट्रो ट्रेन प्रोजेक्ट भी ध्यान रखा जा रहा है। मेट्रो प्रोजेक्ट के कारण फ्लाईओवर की डिजाइन भी आसान नहीं होगी।

यहां भी आइडीए बनाएगा फ्लाईओवर

पिछले दिनों मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने रिंग रोड पर तीन स्थानों पर फ्लाईओवर निर्माण की घोषणा की थी। इस पर आइडीए ने काम शुरू कर दिया है। रेडिसन चौराहा, एमआर-9 चौराहा, आइटी पार्क सर्कल के अलावा भंवरकुआं चौराहे पर भी ब्रिज बनाया जाएगा। इन ब्रिजों के लिए आइडीए बोर्ड भी मंजूरी दे चुका है।

रीगल तिराहे पर फ्लाईओवर की जरूरत है। यहां यातायात का दबाव सबसे ज्यादा रहता है। फ्लाईओवर के लिए आइडीए फिजिबिलिटी सर्वे करा रहा है। इस स्थान पर फ्लाईओवर निर्माण को लेकर बोर्ड बैठक में भी चर्चा हो चुकी है। - विवेक श्रोत्रिय, मुख्य कार्यपालन अधिकारी

Posted By: Prashant Pandey
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.