Ganesh Visarjan 2021 Indore : गणपति बप्पा से मांगी सुख-समृद्धि, नम आंखों से दी विदाई

Updated: | Sun, 19 Sep 2021 08:54 PM (IST)

Ganesh Visarjan 2021 Indore : इंदौर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। दस दिनी गणेशोत्सव का समापन अनंत चतुर्दशी पर रविवार हुआ। इस अवसर पर शहरभर में गणपति बप्पा मोरिया,अगले बरस तू जल्दी आ के जयघोष लगाए लगाए गए। गाजे-बाजे के साथ पूजन कर लड्डु, मोदक का भोग लगाकर आरती की गई। रिद्धि-सिद्धि के दाता गणपति बप्पा से सुख-समृद्धि की कामना कर नम आंखों से विदाई दी।

पर्यावरण सहजेने के उद्देश्य माटी की मूर्तियों को घर में और पर्यावरण हितैषी कुंडों में विसर्जित किया गया। घर में विसर्जित जल को गमलों में प्रवाहित किया गया। नूतन मंडल जेलरोड, मूसाखेडी चौराहा स्थित मूसाखेडी के राजा, जयरामपुर में विराजित दगडू सेठ की प्रतिकृति सहित शहरभर के गणेशोत्सव में विराजित तीन से सात फीट के भगवान गणेश से अगले बरस जल्दी आना की प्रार्थना के साथ विदाई दी गई। खजराना गणेश मंदिर, सिद्धि विजय गणेश मंदिर मरीमाता, बड़ा गणपति मंदिर बड़ा गणपति चौराहा, जूनी इंदौर स्थित जूना गणेश मंदिर में आयोजित दस दिनी आयोजनों का भी समापन पूजा अनुष्ठान के साथ हुआ।

शालीमार बंगलो पार्क रहवासी संघ द्वारा अनंत चतुर्दशी पर कालोनी के रहवासियो द्वारा कालोनी में ही बने बगीचे में गड्डा करके गणेश प्रतिमा का विसर्जन विधि विधान से किया।

नगर निगम जवाहर टेकरी पर करेगा गणेश प्रतिमाओं का विसर्जन

नगर निगम शहरभर से इकट्ठा की गईं प्लास्टर आफ पेेरिस (पीओपी) से बनी गणेश प्रतिमाओं का विसर्जन सोमवार को धार रोड स्थित जवाहर टेकरी पर करेेगा। मिट्टी से बनी गणेश प्रतिमाओं को नागरिकों ने अपनेे हाथों से नगर निगम द्वारा स्थापित किए गए पर्यावरणहितैषी कुंडों में विसर्जित किया। निगम नेे शहर में 85 स्थानों पर गणेश प्रतिमाएं एकत्रित करने और विसर्जन के लिए कुंड स्थापित किए हैं।

निगम के अपर आयुक्त अभय राजनगांवकर ने बताया कि सोमवार को 50 से ज्यादा डंपर की मदद से शहरभर से इकट्ठा हुईं गणेश प्रतिमाओं का विधि-विधान से जवाहर टेकरी पर पूजन होगा। सुबह 10 बजे से शाम तक प्रतिमाएं विसर्जित की जाएंगी। जिन लोगों को पीओपी की गणेश प्रतिमाएं विसर्जन के लिए देनी हैं, वे सुबह 10 बजे तक निगम द्वारा बनाए गए संग्रहण केेंद्रों पर प्रतिमाएं दे सकते हैं। निगमायुक्त प्रतिभा पाल ने नागरिकों से आग्रह किया है कि गणेश प्रतिमा की पूजन सामग्री (माला, फूल, वस्त्र, नारियल और पत्ती आदि) अलग बास्केट में रखकर केंद्रों पर दें।

पांच साल से जारी है मुहिम, लेकिन अभी भी पीओपी प्रतिमाएं ले रहे लोग

विधायक मालिनी गौड़ और नगर निगम जलकार्य समिति के पूर्व अध्यक्ष बलराम वर्मा ने पांच साल पहले पर्यावरणहितैषी कुंडों की स्थापना का अभियान शुरू किया था। इसके पीछे उद्देश्य यह था कि लोग घरों में पीओपी के बजाय मिट्टी सेे बनी प्रतिमाएं स्थापित करें। रविवार को गौड़ और वर्मा ने द्वारकापुरी क्षेत्र में नागरिकों के साथ मिट्टी की प्रतिमाएं कुंडों में विसर्जित की। वर्मा का कहना है कि पिछले कुछ साल में मिट्टी की गणेश प्रतिमाओं का चलन तो बढ़ा है, लेकिन पीओपी की प्रतिमाएं लेना लोग बंद नहीं कर रहे हैं। इंदौर जब हर मामले में नंबर वन है, तो इस मामले में भी नागरिकों को आगे आना चाहिए। पीओपी की प्रतिमाएं पानी में गलती नहीं हैं और तालाब, जलाशय आदि के पानी को खराब करती हैं। मिट्टी की गणेश प्रतिमाएं न केवल पर्यावरण को नुकसान नहीं पहुंचाती, बल्कि लोग खुद उन्हें अपने घर में विसर्जित कर सकते हैं।

Posted By: Hemant Kumar Upadhyay