Gokashth Indore News: खुशहाल भविष्य के लिए लकड़ी के विकल्प के रूप में गोकाष्ठ को अपनाना होगा

Updated: | Sat, 25 Sep 2021 02:12 PM (IST)

इंदौर, नईदुनिया प्रतिनिधि, Gokashth Indore News। अगर हमें आनेवाली पीढ़ियों के भविष्य को खुशहाल और समर्द्ध बनाना है तो लकड़ी के विकल्प के रूप में गोकाष्ठ को अपनाना होगा। इससे पर्यावरण संरक्षण होगा। अनावश्यक पेड़ नही कटेंगे। यह बात गोकाष्ठ संवर्धन और पर्यावरण संरक्षण समिति के राष्ट्रीय अध्यक्ष अरुण चौधरी ने कही। वे इंदौर के मुक्तिधामों का दौरा कर रहे थे। वे भोपाल से विश्राम घाटों में गोकाष्ठ के व्यापक प्रचार-प्रसार के लिए आए थे।

समिति के वरिष्ठ सलाहकार डा. योगेंद्र कुमार सक्सेना ने बताया कि लकड़ी की तुलना में गोकाष्ठ की ज्वलनशीलता ज्यादा होती है। यह पर्यावरण संरक्षण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। कोषाध्यक्ष मम्तेश शर्मा ने बताया कि गोकाष्ठ टीम ने भोपाल शहर के पांच प्रमुख विश्राम घाटों में विगत चार साल में 52 हजार मृतक देहों का संस्कार गोकाष्ठ से करवा कर लगभग एक लाख पचपन हजार क्िवटल लकड़ी के जंगल कटने से बचाए। साथ ही विगत तीन वर्षों से समिति द्वारा होलिका दहन में भी गोकाष्ठ को व्यापक पैमाने पर शहरवासियों को उपलब्ध कराया जा रहा है । गोकाष्ठ समिति ने सोशल वालेंटियर भावना भवराजकर के साथ इंदौर शहर के पंचकुइयां, जूनी इंदौर, रामबाग और विजय नगर विश्राम घाटों का दौरा किया।


उद्योगों की बाधाएं दूर होगी

खनिज विकास निगम के पूर्व अध्यक्ष गोविंद मालू ने दिल्ली में उद्योग मंत्री पीयूष गोयल से भेंट की और उन्हें आत्म निर्भर अभियान के तहत प्रोडक्शन लिंक्ड इंसेटिव का पूरा लाभ उद्योगों को नहीं मिलने की परेशानी से अवगत कराया। मंत्री गोयल ने कहा कि इस प्रक्रिया को और सुविधाजनक बनाया जा रहा हैै। इस बारे में अधिकारियों को तत्काल निर्देश भी उन्होंने दे दिए।

Posted By: gajendra.nagar