एमआर-9, एमआर-10 और आरई-2 के अधूरे कामों को लेकर इंदौर हाई कोर्ट में सुनवाई आज

Updated: | Thu, 09 Dec 2021 08:28 AM (IST)

इंदौर, नईदुनिया प्रतिनिधि। एमआर-9, एमआर-10 और आरई-02 के अधूरे काम को लेकर हाई कोर्ट में चल रही जनहित याचिका में गुरुवार को सुनवाई होगी। नगर निगम पहले ही कह चुका है कि उसने आरई-2 के अधूरे काम पूरा करने के लिए 33 करोड़ 20 लाख रुपये में ठेका दे दिया है। सर्वे पूरा हो चुका है। नगर निगम को भूरी टेकरी से आरटीओ तक का हिस्सा बनाना है। ठेकेदार जल्दी ही काम शुरू कर देगा। गुरुवार को एमआर-9 और एमआर-10 को लेकर भी बहस हो सकती है।

गौरतलब है कि एमआर9 और 10 के सालों से अधूरे पड़े काम और इन मार्गों पर हो रहे अतिक्रमण को लेकर हाई कोर्ट में जनहित याचिका चल रही है। इसी जनहित याचिका की सुनवाई के दौरान पूर्व अतिरिक्त महाधिवक्ता रविंद्रसिंह छाबड़ा और एडवोकेट मुदित माहेश्वरी ने आरई-2 सहित कुछ अन्य मार्गों के अधूरे काम को पूरा करने का मुद्दा उठाया। उनका कहना है कि एमआर9 और एमआर-10 के साथ आरई-2 और कुछ और मार्गों का अधूरा काम पूरा कर दिया जाए तो शहर की जनसंख्या को बड़ी राहत दी जा सकती है।

कोर्ट के आदेश पर कलेक्टर, निगमायुक्त और आइडीए सीईओ की एक कमेटी गठित कर इन मार्गों के अधूरे काम और अतिक्रमण की निगरानी की गई। नगर निगम की तरफ से पिछली सुनवाई पर स्टेटस रिपोर्ट पेश करते हुए बताया गया था कि आरई-2 के अधूरे काम के लिए ठेका दिया जा चुका है। निगम को भूरी टेकरी से आरटीओ तक का हिस्सा बनाना है। गुरुवार को होने वाली सुनवाई में काम की वर्तमान स्थिति और अन्य मार्गों के लिए उठाए गए कदम को लेकर बहस हो सकती है।

Posted By: Sameer Deshpande