कैसे दस माह का मादा तेंदुआ पिंजरा तोड़कर भागा, वन विभाग और चिड़‍ियाघर प्रबंधन की लापरवाही आई सामने

Updated: | Fri, 03 Dec 2021 09:54 AM (IST)

इंदौर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। वन विभाग और कमला नेहरू प्राणी संग्रहालय के कर्ताधर्ताओं की लापरवाही से बुरहानपुर से बुधवार रात चिड़‍ियाघर लाई गई 10 माह की मादा तेंदुआ पिंजरा तोड़कर भाग गई। मादा तेंदुआ बुरहानपुर से रेस्क्यू कर वन विभाग की टीम जर्जर हुए पिंजरे में रखकर लाकर लाई गई थी। बारीश के चलते टीम ने वाहन को त्रिपाल से ढंक रखा था। चिड़‍ियाघर में वाहन खड़ा कर दिया था। इसके बाद त्रिपाल उठाकर न चिड़‍ियाघर न रेस्‍क्यू टीम के किसी सदस्य ने घायल तेंदुआ किस हाल में है यह जानने की कोशिश नहीं की। रेस्क्यू टीम ने रात को साढ़े 11 बजे तक सर्चिंग की गई लेकिन मादा तेंदुआ का कोई निशान नहीं मिला। शुक्रवार दोपहर 12 बजे बाद फिर से तलाश की जाएगी।

इसके बाद रेस्‍क्यू टीम वन विभाग की नवरतन बाग स्थित गेस्ट हाउस पर चली गई। सुबह जब वन विभाग की टीम और चिड़‍ियाघर के कर्मचारी ने तेंदुए को पिंजरे में शिफ्ट करने के लिए त्रिपाल हटाया तो तेंदुआ पिंजरे में नहीं था। इसके बाद दोनों विभागों के अधिकारियों के बीच हड़ंकप मच गया। दिनभर में तीन बार सर्चिंग की गई। जहां वाहन रखा गया था जू प्रबंधन ने वहां के कैमरे खराब होने की बात कही। हालांकि वन विभाग के लोग कहना था कि कैमरे में साफ नहीं लेकिन तेंदुआ के गुजरने की झलक नजर आ रही है।

स्नीफर डाग भी नहीं तलाश पाया

डीएफओ नरेंद्र पंडवा और एसडीओ अनिलकुमार श्रीवास्तव तेंदुआ तलाशना के लिए स्नीफर डाग के साथ पहुंचे। लेकिन थोड़ी देर यहां वहां घूमने के बाद तलाश खत्म कर दी गई। इसके पीछे अधिकारियों का कहना था कि यहां कई वन्य प्राणी होने के कारण स्नीफर डाग भी गायब हुए तेंदुआ तलाशने में भ्रमित हो रहे थे।

तेंदुआ अगर चिड़‍ियाघर में होता किसी ने तो देखा होता

इधर चिड़‍ियाघर प्रशासन तेंदुआ के चिड़‍ियाघर से गायब होने पर ही सवाल उठा रहा है। जू प्रभारी डा. उत्तम यादव का कहना है कि तेंदुआ चिड़‍ियाघर से ही गायब हुआ यह साफतौर पर नहीं कहा जा सकता है। जिस पिंजरे में तेंदुआ लाया गया वह कही से भी तेंदुआ को रखने के हिसाब से ठीक नहीं था। जर्जर और कमजोर पिंजरे से रेसक्यू करने बाद रास्तें में ही कूदकर भाग भी सकता है।। उनका कहना था अभी तेंदुआ इतना बड़ा नहीं है जो किसी का शिकार कर सके। हालांकि वह किसी को घायल जरूर कर सकता है।

दर्शकों के लिए खुला रहा चिड़‍ियाघर

तेंदुआ के पिंजरे से गायब होने के बाद भी चिड़‍ियाघर दर्शकों के लिए दिनभर खुला रहा। हालांकि बारिश और ठंड के चलते दर्शकों की संख्या सामान्य से कम थी लेकिन तेंदुआ तलाशने में कर्मचारी जुटे हुए थे। सर्चिंग देर रात तक जारी रही।

Posted By: Hemant Kumar Upadhyay