HamburgerMenuButton

Indore news : मिलावटी घी और पनीर बनाने वाले डेयरी संचालकों के दूसरे ठिकानों की तलाश भी होगी

Updated: | Thu, 03 Dec 2020 12:12 PM (IST)

इंदौर, नईदुनिया प्रतिनिधि,Indore news। इंदौर में मिलावटी घी, पनीर, मावा और अन्य डेयरी उत्पाद बनाने वाले कारोबारियों के दूसरे ठिकानों की तलाश भी प्रशासन करेगा। खाद्य और औषधि प्रशासन (एफडीए) ने हाल ही में पोलोग्राउंड औद्योगिक क्षेत्र में किशनलाल मायाराम फूड इंडस्ट्री और सतगुरु मिल्क प्रोडक्ट के कारखानों पर छापामार कार्रवाई कर डेयरी उत्पादों के निर्माण में प्रतिबंधित केमिकल की मिलावट को पकड़ा था। यहां एसिटिक एसिड का उपयोग कर पनीर और दही बनाया जा रहा था। घी की पैकिंग भी बिना लेबल के हो रही थी। प्रशासन ने दोनों कारखानों को सील कर दिया है। साथ ही कारखाना संचालकों पर रासुका भी लगाई है।

बताया जाता है कि इन कारखाना संचालकों के कुछ सहयोगी फरार हैं। पुलिस इनकी तलाश कर रही है। दूसरी तरफ यह भी पता चला है कि किशनलाल मायाराम फूड इंडस्ट्री और सतगुरु मिल्क प्रोडक्ट से जुड़े इनके सहयोगी प्रतिष्ठान भी शहर में अन्यत्र चल रहे हैं। प्रशासन को इस संबंध में शिकायत मिली है। इस बारे में प्रशासन का कहना है कि उन प्रतिष्ठानों के बारे में भी पता लगाकर जांच की जाएगी। आशंका है कि इन कारखानों में बना हुआ माल वहां भी बिक रहा होगा। प्रशासन के अधिकारियों का कहना है कि कारखाने सील कर दिए हैं, इसलिए उन प्रतिष्ठानों पर यह माल अब नहीं पहुंच रहा है, लेकिन पहले से रखा माल बेचा जा सकता है।

आशंका यह भी है कि सहयोगी प्रतिष्ठानों पर भी इसी तरह की गतिविधियां चल रही होंगी। इसलिए उनकी जांच करना भी जरूरी है। अपर कलेक्टर अभय बेड़ेकर का कहना है कि दोनों डेयरी कारखानों के खाद्य सुरक्षा के लायसेंस निलंबित कर दिए हैं। लायसेंस निलंबन के लिए मुख्य चिकित्सा और स्वास्थ्य अधिकारी (सीएमएचओ) को निर्देश दिए थे। मिलावट करने वालों के खिलाफ प्रशासन का अभियान लगातार जारी रहेगा।

Posted By: gajendra.nagar
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.