Indore News: प्रदूषण फैलाने वाले उद्योग नए मास्टर प्लान में आबादी क्षेत्रों से बाहर रहेंगे

Updated: | Thu, 28 Oct 2021 07:00 AM (IST)

Indore News: इंदौर। नईदुनिया प्रतिनिधि। शहर विकास योजना 2035 में प्रदूषण फैलाने वाले उद्योग शहरी आबादी क्षेत्र से बाहर रहेंगे और आइडी पार्क विकसित करने पर ज्यादा जोर रहेगा । इसकी सहमति मास्टर प्लान के प्रारुप प्रकाशन से पहले हुई बैठक में बनी। इस बैठक में शहर के औद्योगिक संगठन, व्यापारी संगठन, क्रेडाई व अन्य संस्थाओं से सुझाव लिए गए।

कलेक्टर मनीष सिंह ने कहा कि शहर की सीमाओं पर नए ट्रांसपोर्ट नगर विकसित किए जाएंगे, ताकि भारी वाहनों का दबाव शहर की सड़कों पर न हो।इसके अलावा मेट्रो सिटी की तर्ज पर इंदौर में आइटी पार्क स्थापित हो सके,ताकि निजी कंपनियां शहर में मिें निवेश के लिए प्रोत्साहित हो।

बैठक में कलेक्टर ने यह भी कहा कि प्रारुप में प्रदूषण नियंत्रण मंडल, औद्योगिक क्षेत्र के नियम और प्रावधानों का उल्लेख भी किया जाना चाहिए। उद्योगपतियों ने यह सुझाव दिया कि नए मास्टर प्लान में रोहाऊस की तरह रो टाइप इंडस्ट्री स्थापित की जाना चाहिए और नए औद्योगिक क्षेत्रों में सामुदायिक सरंचना भी विकसित की जाए, ताकि लोगों को आसपास ही रहने के लिए सुविधा युक्त आवास मिल सके।

नए औद्योगिक क्षेत्र के लिए पांच हजार एकड़ भूमि रखे

एसोसिएशन आफ इंडस्ट्रीज मध्यप्रदेश के अध्यक्ष प्रमोद डफरिया ने बैठक में कहा कि नए मास्टर प्लान में 5 हजार एकड़ भूमि नए औद्योगिक क्षेत्र के लिए रखी जाना चाहिए और वहां वर्टिकल उद्योग लगाने की सुविधा, पक्की सड़कें, पेयजल, पावर स्टेशन व अन्य सुविधाएं दी जाए।

उपाध्यक्ष योगेश मेहता ने कहा कि औद्योगिक क्षेत्रों को आधुनिक सुविधाओं के साथ विकसित किया जाना चाहिए। डफरिया ने पालदा औद्योगिक क्षेत्र को मास्टर प्लान में सामान्य औद्योगिक क्षेत्र का दर्जा देने के सुझाव दिया। अफसरों ने कहा कि प्रदूषण वाली इकाइयों को छोड़कर सामान्य उद्योगों को क्षेत्र में शामिल कर लिया जाए। जयवंत होकर ने सुझाव दिया कि शहर के चारों तरफ नई मंडी का प्रावधान रहे, लेकिन उन्हें विकसित करने की जिम्मेदारी भी सुनिश्चित होना चाहिए। सरकारी विभाग ही इस काम में देरी करते हैं।

ऽऽऽऽ

Posted By: Hemant Kumar Upadhyay