HamburgerMenuButton

International Womens Day Special: रेल इंजनों पर देवी अहिल्याबाई से रानी लक्ष्मीबाई तक के नाम

Updated: | Mon, 08 Mar 2021 07:27 AM (IST)

International Women's Day Special: अमित जलधारी, इंदौर। रेलवे ने पहली बार देश की वीरांगनाओं और महिला शासकों के नाम इंजनों पर अंकित किए हैं। किसी इंजन को इंदौर की रानी अहिल्याबाई का नाम दिया गया है, तो किसी को रानी लक्ष्मीबाई या फिर अवंतीबाई का। दक्षिण भारत की लोकप्रिय रानी चिन्नाम्मा और रानी वेलू नचियार के नाम पर भी इंजनों का नामकरण किया गया है। यह पहल कर रेलवे ने देश के स्वाधीनता आंदोलन में अपने प्राणों की आहुति देने वाली या अपने शासन के दम पर अमिट छाप छोड़ने वाली महिलाओं के प्रति सम्मान प्रदर्शित किया है।

कुछ समय से इस तरह के रेल इंजनों के वीडियो और फोटो इंटरनेट मीडिया पर खूब वायरल भी हो रहे हैं। रेल इंजनों के नाम वीरांगनाओं और रानियों के नाम पर रखने का प्रयोग उत्तर रेलवे के दिल्ली रेल मंडल के तुगलकाबाद डीजल लोको शेड द्वारा किया गया है। शेड के डब्ल्यूडीपी 4बी और डब्ल्यूडीपी 4डी जैसे शक्तिशाली और आधुनिक डीजल इंजनों पर वीरांगनाओं और महिला शासकों के नाम बड़े अक्षरों में अंकित किए गए हैं।

हालांकि, रेलवे बोर्ड स्तर पर तो ऐसे कोई दिशा-निर्देश जारी नहीं किए गए थे, लेकिन दिल्ली रेल मंडल ने खुद यह पहल की है। इंजन के दोनों तरफ सामने और दाईं-बाईं ओर नाम अंकित किए गए हैं।

इन महान महिलाओं के नाम हुए इंजन...

1. देवी अहिल्याबाई होलकर

वर्ष 1735 में अहिल्याबाई का विवाह इंदौर के खंडेराव होलकर से हुआ। रानी अहिल्याबाई ने 1767 से 1795 तक मालवा राज्य पर शासन किया। शिवभक्त अहिल्याबाई ने इस दौरान देश में अलग-अलग जगह पवित्र नदियों के किनारे घाटों के निर्माण कराए। इसके अलावा उन्होंने देशभर में कुएं- बावड़ियां, धर्मशालाएं बनवाकर परोपकार किए। मंदिरों के जीर्णोद्धार और मूर्तियों की प्राण प्रतिष्ठा करवाने में वे हमेशा आगे रहती थीं। अहिल्याबाई ने काशी-कोलकाता मार्ग की मरम्मत भी करवाई थी। सन् 1795 में उनका निधन हुआ।

2. रानी लक्ष्मीबाई

मराठा शासित झांसी की रानी लक्ष्मीबाई 1857 में शुरू हुई क्रांति में वीरांगना हुई थीं। उन्होंने झांसी के लिए अंग्रेजों से युद्ध किया और रणभूमि में शहीद हुईं।

3. रानी चिन्नाम्मा

कर्नाटक के कित्तूर राज्य की रानी थीं। वर्ष 1824 में उन्होंने हड़प नीति के विरुद्ध अंग्रेजों से सशस्त्र संघर्ष शुरू किया था। बाद में वे वीरगति को प्राप्त हुईं। उन्हें स्वतंत्रता के लिए सबसे पहले संघर्ष करने वाले शासकों में गिना जाता है।

4. रानी अवंतीबाई

देश के पहले स्वाधीनता संग्राम में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाली पहली महिला शहीद वीरांगना थीं। वर्ष 1857 में रामगढ़ की रानी अवंतीबाई रेवांचल में मुक्ति आंदोलन की सूत्रधार रहीं। वर्ष 1858 में उनके निधन की जानकारी मिलती है।

5. वेलू नचियार

तमिलनाडु में जन्मी वेलू नचियार शिवगंगा रियासत की रानी थीं। उन्हें तमिलनाडु में वीरमंगई नाम से जाना जाता था। उन्होंने भी अंग्रेजों के खिलाफ लड़ाई शुरू की। उनका निधन 1796 में हुआ था।

इनका कहना है

तुगलकाबाद लोको शेड द्वारा डीजल इंजनों पर वीरांगनाओं और महिला शासकों के नाम अंकित करने की आधिकारिक जानकारी नहीं है, परंतु प्रयास अच्छा है। इसे रतलाम रेल मंडल में अपनाने का विचार करेंगे।

- विनीत गुप्ता, मंडल रेल प्रबंधक, रतलाम, मध्य प्रदेश

वीरांगनाओं को सम्मान देने के लिए दिल्ली रेल मंडल के तुगलकाबाद डीजल लोको शेड द्वारा अपने रेल इंजनों पर इन महान महिलाओं के नाम नाम अंकित किए गए हैं।

दीपक कुमार, मुख्य जनसंपर्क अधिकारी, दिल्ली रेल मंडल

Posted By: Hemant Kumar Upadhyay
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.