HamburgerMenuButton

Digital Villages In Indore: जिले में आने वाले 320 गांवों में पहुंचा इंटरनेट, पंचायतों को आप्टिकल फाइबर से जोड़ा

Updated: | Tue, 22 Jun 2021 07:14 AM (IST)

इंदौर, नईदुनिया प्रतिनिधि Digital Villages In Indore। डिजिटल इंडिया के तहत देशभर के गांवों में इंटरनेट पहुंचने का काम तेज हो चुका है। प्रत्येक ग्राम पंचायत तक आप्टिकल फाइबर केबल बिछाई जा रही है। सरकारी दूरसंचार कंपनी बीएसएनएल ने इंदौर जिले का टारगेट महीनों पहले पूरा कर लिया है। लगभग 320 गांव की पंचायत में इंटरनेट सेवा पहुंच गई है। सरकारी योजनाओं के बारे में ग्रामीणों को बताया जा रहा है। खास बात यह है कि योजनाओं का लाभ भी ग्रामीणों को दिया जा रहा है। पंचायत कार्यालय से ही आनलाइन आवेदन भिजवाए जा रहे है। हालांकि इंदौर छोड़कर बाकी जिलों में काम अधूरा है। अधिकारियों के मुताबिक इन गांव तक इंटरनेट सेवा अगले छह महीनों के भीतर पहुंचाएंगे। फिलहाल केंद्र सरकार से बजट मांगा गया है।

इंदौर संभाग में केंद्र सरकार की डिजिटल इंडिया योजना 2016 से शुरू हुई, जिसमें सबसे पहले इंदौर जिले में आने वाले गांवों में केबल बिछाई गई। 2018 तक करीब 200 ग्राम पंचायत तक केबल पहुंच चुकी थी, लेकिन फिर कुछ महीने काम बंद रहा। दूरसंचार कंपनी ने मुख्यालय को आप्टिकल फाइबर, उपकरण की जरूरत बताई। उसके बाद देपालपुर, महू, सांवेर, केम्पल सहित अन्य क्षेत्रों में केबल डाली गई। इसके अलावा धार, झाबुआ, खंडवा और खरगोन में भी एक साथ काम शुरू किया।

अधिकारियों के मुताबिक सितंबर 2020 में इंदौर जिले के 320 गांव की पंचायत तक इंटरनेट सुविधा पहुंच चुकी थी। कंपनी ने पंचायत की इंटरनेट सेवा की टेस्टिंग भी तीन चरणों में लगी। यह काम एजेंसी से करवाया है। टेस्टिंग के दौरान विडिया कॉफ्रेंसिंग, सरकारी योजना के आवेदन और अन्य योजना देखी। ग्रामीणों को भी इंटरनेट के बारे में समझाया। वहीं धार जिले में पहले चरण में 391 गांव में ब्राडब्रेंड-इंटरनेट सेवा पहुंचाई है। वैसे अभी धार जिले के कुछ गांवों का काम अधूरा है। बीएसएनएल के मुताबिक अगले महीने दूसरा चरण शुरू होगा।

बजट नहीं होने से काम रुका

कंपनी की आर्थिक स्थिति बिगड़ने से डिजिटल इंडिया का काम प्रभावित हो रहा है। यहां तक बजट नहीं होने के चलते भी कंपनी को 2019 में कुछ महीने काम रोकना पड़ा था। इन दिनों केबल बिछाई जा रही है, लेकिन काम की गति बहुत धीमी है। बजट के अलावा कंपनी में कम होते कर्मचारी भी प्रमुख कारण है। इन दिनों धार, झाबुआ, खंडवा और खरगोन में करीब 120 किमी केबल बिछाना बाकी है।

जल्द करेंगे बचा हुआ काम

इंदौर जिले के गांवों में काफी पहले ही इंटरनेट पहुंच चुकी थी। कुछ जिलों का काम बचा हुआ है। वह भी जल्द ही पूरा करेंगे। इसके लिए अगले साल जुलाई तक का टारगेट रखा है।

- संजीव सिंघल, महाप्रबंधक, बीएसएनएल इंदौर सर्कल

Posted By: Sameer Deshpande
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.