HamburgerMenuButton

मौत के एक दिन पूर्व मोबाइल से हुए ट्रांजेक्शन की जांच

Updated: | Fri, 25 Jun 2021 09:42 AM (IST)

इंदौर, नईदुनिया प्रतिनिधि। 17 वर्षीय यशवंत पिंडोरिया आत्महत्या केस की गुत्थी उलझती जा रही है। स्वजन द्वारा बताए कारण गले नहीं उतर रहे है। पुलिस पिता डॉ.जितेंद्र द्वारा दी गई धमकी, यशवंत के प्रेम प्रसंग और लेनदेन जैसे बिंदुओं पर जांच कर रही है। यशवंत का 72 वर्षीय दादा डॉ. मांगीलाल बार-बार बयान बदल रहा है। मांगीलाल द्वारा मृत बताने पर जितेंद्र ने जल्दबाजी में दाह संस्कार करवा दिया जबकि वह जिंदा भी हो सकता था।

डीएसपी (मुख्यालय) अजय वाजपेयी के मुताबिक गुरुवार को यशवंत की बहन मुस्कान और दादा मांगीलाल को थाने बुलाया गया। पूछताछ के दौरान मुस्कान की तबियत बिगड़ गई और महिला सिपाहियों की मदद से घर भिजवाना पड़ा। शाम को मांगीलाल से पूछताछ की तो वह गुमराह करने लगे। पहले तो यशवंत के शरीर से खून निकल रहा था इससे ही इन्कार कर दिया। बाद में कहा स्वजनों ने उसे खाट पर लेटा दिया। महिलाओं ने चारों तरफ से घेरा तो वह दूर जाकर बैठ गया। डीएसपी ने पूछा कि राज ने देखा तब उसकी सांस चल रही थी तो अस्पताल क्यों नहीं ले गए। मांगीलाल ने कहा मैंने नब्ज देख कर मृत बता दिया था। डीएसपी के मुताबिक जितेंद्र ने यह भी बताया कि उसका एक युवती से प्रेम प्रसंग चल रहा था। दूसरे समाज की युवती होने के कारण शादी से इन्कार कर दिया था। पुलिस इन दो बिंदुओं के अलावा लेनदेन की भी जांच कर रही है। यशवंत के फोन से पता चला कि उसने एक दिन पूर्व ही एक मोबाइल दुकान संचालक को 20 हजार रुपये ट्रांसफर किए थे।

Posted By: gajendra.nagar
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.