Indore News: लाइफ व हैप्पीनेस कोच नारंग ने कहा, पेड़-पौधों से ही हैं हमारे अस्तित्व की जड़ें

Updated: | Tue, 03 Aug 2021 04:47 PM (IST)

इंदौर, नईदुनिया प्रतिनिधि Indore News। अगर हमारे जीवन में कोई सच्चा मित्र है और जिनसे हम सच्चा प्रेम पा सकते हैं तो वह ये वृक्ष ही हैं। वनस्पति हमें भोजन, प्राणवायु देते हैं। उनकी दया से हम जीवित रहते हैं। वे हमारे शरीर के मूल घटक हैं। हमारे अस्तित्व की जड़ें उनके कारण ही विद्यमान हैं। हमें अपने अस्तित्व की जड़ों तक लौटने का अभ्यास करना चाहिए। यह बात लाइफ व हैप्पीनेस कोच डा. गुरमीत नारंग ने नेचर बाथ कार्यक्रम में व्यक्त की।

मित्रता दिवस के उपलक्ष्य में राजीव गांधी चौराहा के समीप एक नर्सरी में अायोजित इस कार्यक्रम में वक्ता अौर श्रोता दोनों ही प्राकृतिक परिवेश में मौजूद थे, जहां पेड़-पौधों की छांव अौर उन्हीं की बात भी थी। तवलीन फाउंडेशन के बैनर तले हुए इस अायोजन में डा. नारंग ने कहा कि वृक्ष मानव को बहुत प्रेम देते हैं अौर मानव की खुशी व जरूरतों की पूर्ति के लिए वे खुद को कटवा भी देते हैं। हमें इनसे यह प्रेम सीखना चाहिए। प्रेम देने का कार्य करता है तो अहंकार पाने की कामना करता है। हमें यह देखना होगा कि हम प्रेम करते हैं या अहंकार रखते हैं।

हम केवल जरूरत की पूर्ति के वक्त ही पेड़-पौधों के करीब जाते हैं जबकि हमें उन्हें प्यार देने, उनका ध्यान रखने के लिए भी उनके पास जाना चाहिए। प्रेम कैसा हो ये भी हमे इनसे सीखना चाहिए। पेड़ से हम विशाल हृदयवाला अौर अनंत शाखाअों से लोगों की मदद करने वाला होने का गुण सीखना चाहिए। इस अायोजन में श्रोताअों ने न केवल चर्चा की बल्कि पेड़-पौधों को गले भी लगाया, उनके फोटो लिए, पत्तों की सरसराहट को महसूस किया अौर मानव द्वारा पौधों के साथ होने वाले बुरे बर्ताव के लिए माफी भी मांगी। इस अवसर पर राजेश जैन, डा. धर्मेंद्र वर्मा, रशिका जोशी विशेष रूप से उपस्थित थे।

Posted By: Sameer Deshpande