HamburgerMenuButton

कैश डिपॉजिट मशीन में उंगली फंसाकर कर लाखों रुपये निकालने वाली मेवात गैंग पकड़ाई

Updated: | Fri, 25 Jun 2021 09:00 AM (IST)

इंदौर, नईदुनिया प्रतिनिधि। कैश डिपॉजिट एवं एटीएम मशीनों से छेड़छाड़ कर बैंकों को लाखों रुपयों की चपत लगाने वाले मेवात को दो बदमाशों को क्राइम ब्रांच ने पकड़ लिया है। आरोपितों से शहर के पांच विभिन्ना क्षेत्रों में हुई वारदातों के सिलसिलें में पूछताछ चल रही है। शक जब्त एटीएम किराये या चोरी के है। आइजी हरिनारायाण मिश्र ने थानों में दर्ज प्रकरणों की जांच भी क्राइम ब्रांच को सौंप दी है।

राजेंद्रनगर थाना पुलिस ने 18 जून को एसबीआइ (केशरबाग) बैंक मैनेजर अंकिता पोरवाल की शिकायत पर दो अज्ञात बदमाशों के विरुद्ध दो लाख 10 हजार रुपये की धोखाधड़ी का केस दर्ज किया था। अंकिता ने पुलिस को बताया कि आरोपितों ने 10-10 हजार रुपये का 21 बार ट्रांजेक्शन किया और बैंक को दो लाख 10 हजार रुपये की चपत लगा दी। रि-साइकलर खोलने पर ज्ञात हुआ आरोपितों ने कैश डिपॉजिट मशीन (सीडीएम) का उपयोग किया और 10 हजार रुपये निकाले। जैसे ही रुपयों से भरी ट्रे बाहर आई आरोपितों ने उंगली फंसा दी। इससे मशीन ने ऐरर का मैसेज भेज दिया और आरोपित इस प्रकार रुपये निकाल कर ले गए। दो दिन बाद भी चाणक्यपुरी चौराहा (अन्नापूूर्णा) पीवाय रोड़ (सराफा) पलसीकर (जूनी इंदौर) और भमौरी के एटीएम से भी रुपये निकालने की शिकायतें पहुंच गई। डीआइजी मनीष कपूरिया ने क्राइम ब्रांच को जांच का जिम्मा सौंपा और दो आरोपितों को हिरासत में ले लिया। आइजी के मुताबिक प्रारंभिक पूछताछ में आरोपितों ने बताया कि वह चोरी के एटीएम का उपयोग कर रहे थे। इंदौर की पांच वारदातों में शामिल होना तो स्वीकार लिया है। उनके मोबाइल की जांच कर संपर्कों का पता लगाया जा रहा है।

मेवात से आए और ढाबों पर रुके

आइजी के मुताबिक आरोपित मूलत: हरियाणा के मेवात के रहने वाले है और देशभर में विभिन्ना तरीकों से ठगी करते है। इसके पहले इस गैंग के सदस्य एटीएम मशीन की बिजली आपूर्ति बंद कर ठगी करते थे। आरोपितों ने बताया कि वह वारदात के बाद ढाबों और होटलों में रुकते थे। पुलिस ने उन्हें सीसीटीवी फुटेज के आधार पर हिरासत में ले लिया।

Posted By: gajendra.nagar
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.