धार्मिक इंदौर न्यूज: जीवन के सभी संशयों का समाधान रामकथा में

Updated: | Tue, 30 Nov 2021 12:45 PM (IST)

इंदौर, नईदुनिया प्रतिनिधि। रामचरित मानस की प्रत्येक पंक्ति मानव जीवन के लिए आज भी प्रासंगिक, शाश्वत और उपयोगी है। मानस के रूप में तुलसीदास ने दुनिया को ऐसा दिव्य ग्रंथ दिया है, जिसमें जीवन के सभी संशयों का समाधान मौजूद है। यह वह कथा है जो हमारे अंत:करण से लेकर घर-परिवार, मोहल्ले, समाज और राष्ट्र में सुख और शांति की स्थापना कर सकती है। प्रभु श्रीराम की मंगलमय भक्ति प्राप्त करने के लिए मन की पवित्रता पहली शर्त है। राम जन-जन के आराध्य है तो हनुमान दासों के दास हैं।

यह बात कथावाचक दीदी मां मंदाकिनी श्रीराम किंकर ने सोमवार को संगम नगर स्थित श्रीराम मंदिर पर कही। वे सात दिनी रामकथा के पहले दिन संबोधित कर रही थी। उन्होंने दो वर्ष पूर्व संगम नगर में हुए राम-जानकी विवाह की याद ताजा करते हुए कहा कि सचमुच संगम नगर के भक्तों का उत्साह ठीक वैसा ही है जैसा अपने जंवाई और बेटी की अगवानी के समय होता है। राम और जानकी तो अब संगम नगर के बेटी-दामाद है इसलिए इस बार भी कथा का श्रवण हमें उसी मनोभाव से करना चाहिए।कथा से पूर्व शोभायात्रा निकाली गई।

इसमें बैंडबाजे, ढोल-ताशे, रथ-बग्घी सहित भजन एवं गरबा मंडलियों में नाचते-गाते श्रद्धालु बड़ी संख्या में शामिल हुए। पूर्व राज्यमंत्री योगेन्द्र महंत, संजय लुणावत, गोविंद पंवार ने शोभायात्रा की अगवानी की। इस अवसर पर समाजसेवी प्रेमचंद गोयल, अरविंद गुप्ता, अनूप जोशी, सुरेन्द्र वाजपेयी, लक्की अवस्थी उपस्थित थे। कथा 30 नवम्बर से प्रतिदिन शाम 4 से 6.30 बजे तक होगी।

Posted By: gajendra.nagar