इंदौर में कागजों पर सड़कों की मरम्मत, जान देकर जनता चुका रही कीमत

Updated: | Mon, 27 Sep 2021 08:49 AM (IST)

इंदौर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। इंदौर शहर की सड़कों पर जानलेवा गड्ढे हो रहे हैं और नगर निगम के अधिकारी कागजों में पैचवर्क कर रहे हैं। अफसरों की लापरवाही की कीमत जनता को जान देकर चुकानी पड़ रही है। सड़क का एक किलोमीटर हिस्सा भी साबुत नहीं बचा है। खासतौर पर बंगाली चौराहे से राजीव गांधी प्रतिमा के बीच हर फ्लाईओवर और हर चौराहे के इर्द-गिर्द हालत बदतर हो गए हैं। बड़े और गहरे गड्ढों के कारण वाहन चालकों की जान जोखिम में रहती है। जहां दुर्घटना हुई थी, वहां रविवार दोपहर तक नगर निगम के आला अफसर नहीं पहुंचे। मगर नईदुनिया ने मौके पर जाकर सड़क की बदहाली देखी और महसूस किया कि गड्ढों के कारण लोग किस तरह की तकलीफें झेल रहे हैं।

सबसे खतरनाक हो गई सड़क : तीन इमली ब्रिज पर बस स्टैंड के सामने से अभिनव नगर कार्नर तक सर्विस रोड पर आठ से 10 फीट चौड़े और आधे से एक फुट गहरे गड्ढे बन गए हैं। रात में अपर्याप्त रोशनी और जलजमाव के कारण चालक को गड्ढे का अंदाजा नहीं लगता और दुर्घटना होती है। सर्विस रोड और मुख्य मार्ग के जंक्शन पर लगातार पानी बहने से सड़क कट गई है। गंदा पानी विशेष अस्पताल तरफ से सर्विस रोड पर बहकर अभिनव नगर तक आता है।

रोज गिरते हैं 40-50 लोग : अभिनव नगर के रोहित सिसोदिया ने बताया कि बड़े गड्ढों के कारण सर्विस रोड पर रोज सुबह से रात तक 40-50 लोग गिरते हैं। फिर भी नगर निगम के अधिकारी नहीं आते हैं। शुक्रवार रात भी एक बच्ची गड्ढे में गिरकर घायल हो गई थी।

गैरजिम्मेदार... पैचवर्क तो दूर मौके पर भी नहीं पहुंचे अफसर

शनिवार को रिंग रोड पर जहां दुर्घटना हुई थी, जिसमें एक छात्रा की मौत हो गई। उसकी सहेली और भाई घायल हो गए। वहां रविवार दोपहर तक पैचवर्क करने की जहमत भी नहीं उठाई गई। जाहिर है। नगर निगम के आला अफसरों ने मौके पर जाना भी मुनासिब नहीं समझा।

सभी जोन में गड्ढे भरने का काम किया जा रहा है। रविवार को तीन इमली ब्रिज और रिंग रोड के विभिन्ना हिस्सों में कच्चा पैचवर्क किया गया। - देवेंद्रसिंह, अपर आयुक्त, नगर निगम

तीन इमली ब्रिज के आसपास सीमेंट की सर्विस रोड फिर बनाने के लिए टेंडर बुलाए जा चुके हैं। बारिश के कारण काम शुरू नहीं हो पा रहा है। - अशोक राठौर, अधीक्षण यंत्री, नगर निगम

मानसून सीजन के दौरान कच्चा पेचवर्क ही कर सकते हैं। फिलहाल सभी जोन में गड्ढे भरने का अभियान युद्धस्तर पर चलाया जा रहा है। - प्रतिभा पाल, निगमायुक्त

निगम के अधिकारी बोले, चार दिन पहले ही गड्ढे भरवाए थे, बारिश के कारण पैचवर्क बह गया

(जोन-18 के जोनल अधिकारी अतीक खान के जवाब)

सवाल- आपको जानकारी है कि आपके क्षेत्र के गड्ढों के कारण शनिवार को एक छात्रा की जान चली गई? गड्ढों में पैचवर्क क्यों नहीं किया गया था?

जवाब- मुझे रविवार को जानकारी मिली। घटना बेहद दुखद है। लगातार पैचवर्क कर रहे हैं। अब तक चार बार रिंग रोड के गड्ढे भरे जा चुके हैं।

सवाल- आखिरी बार तीन इमली ब्रिज से आइटी पार्क चौराहा के बीच पैचवर्क कब किया गया था?

जवाब- चार दिन पहले गड्ढे भरवाए थे, लेकिन रोज तेज बारिश के कारण कच्चा पैचवर्क बह जाता है। (हालांकि, मौके पर गई नईदुनिया टीम को गड्ढों के आसपास पैचवर्क जैसी कोई बात नहीं दिखी।)

सवाल- तीन इमली बस स्टैंड के सामने सर्विस रोड पर तो एक-एक फुट गहरे गड्ढे हैं। उनका भराव क्यों नहीं करवाते?

जवाब- सर्विस रोड पर पुलिया चौड़ी होनी है और नई कांक्रीट सड़क बननी है। मानसून सीजन के बाद काम शुरू करेंगे। रविवार को वहां के गड्ढे भी भरवाए।

सवाल- अब दोबारा गड्ढों के कारण किसी की मौत न हो, इसके लिए क्या करेंगे?

जवाब- बारिश रोज हो रही है, इसलिए गड्ढे रोज भरवाएंगे। काम की नियमित निगरानी करेंगे।

Posted By: Prashant Pandey