HamburgerMenuButton

Indore News: एकल श्रीहरि के रजत जयंती महोत्सव में बिखरे ‘भारत के रंग, एकल के संग’

Updated: | Mon, 08 Mar 2021 10:58 AM (IST)

इंदौर, नईदुनिया प्रतिनिधि Indore News। देश के वनवासी अंचलों में बच्चों को शिक्षा और संस्कार देने के अभियान में समर्पित संस्था एकल श्री हरि के रजत जयंती महोत्सव में ‘वन पंचामृतम्’ ग्रंथ का लोकार्पण किया गया। दिल्ली के कनाट प्लेस स्थित केदारनाथ साहनी सभागृह में आयोजित इस समारोह में ‘भारत के रंग, एकल के संग’ नृत्य नाटिका का मंचन भी वनवासी भाई-बहनों द्वारा किया गया जिसका सीधा प्रसारण गीता भवन इंदौर के सत्संग सभागृह में भी देखा गया। यह सीधा प्रसारण देखने के लिए सभागृह में मेगा स्क्रीन की व्यवस्था की गई थी।

वनबंधु परिषद एकल श्री हरि सत्संग समिति के अध्यक्ष रामविलास राठी एवं सचिव सीके अग्रवाल ने बताया कि इस अवसर पर समाजसेवी रामअवतार जाजू, नरेंद्र सिंघल, अतुल गुप्ता, गीता मूंदड़ा, विनीता जाजू, सुषमा चैधरी, शिखा मुछाल, शशि काबरा, माधवी झंवर, रसनिधि कुमार गुप्ता, प्रमेंद्र सिंघल, जी.एस. अग्रवाल, भारती झंवर, पूनम झंवर, सोनाली गुप्ता एवं श्री हरि सत्संग समिति तथा एकल श्री हरि के इंदौर चेप्टर के पदाधिकारी एवं मार्गदर्शक बड़ी संख्या में उपस्थित थे। इस अवसर पर एकल श्रीहरि के व्यास कथाकारों ने भी अपनी जीवंत प्रस्तुतियां देकर दर्शकों का मन मोह लिया।

गीता भवन में यह प्रसारण देखने के लिए इंदौर चेप्टर के प्रमुख जिलों के वनवासी बंधु भी आए थे। अभियान के प्रमुख श्याम गुप्त ने इस अवसर पर बताया कि इस वर्ष चार लाख जनजाति गांवों में संस्कार केंद्रों की स्थापना करने, 40 करोड़ वनवासी समाज को नगरीय समाज से जोड़ने, वनवासी गांवों में सांस्कृतिक एवं धार्मिक कार्यक्रमों का ज्यादा से ज्यादा आयोजन करने जैसे लक्ष्य रखेे गए हैं। वर्ष 2017 में एकल अभियान को राष्ट्रीय गांधी शांति पुरस्कार भी मिल चुका है। अंत में सत्यनारायण काबरा ने आभार माना।

Posted By: Sameer Deshpande
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.