HamburgerMenuButton

Health Tips Indore: बदलते मौसम में बरतें सावधानी और रहें सेहतमंद

Updated: | Tue, 22 Jun 2021 08:11 AM (IST)

इंदौर, नईदुनिया प्रतिनिधि Health Tips Indore। बारिश और धूप दोनों की अभी लुका-छिपी जारी है। पल-पल बदलते मौसम से बीमार होने की आशंका और भी बढ़ जाती है। बारिश के मौसम में मलेरिया, टाइफाइड, डेंगू, पीलिया, आंखों से संबंधित परेशानी, त्वचा रोग बहुताय से होते हैं। कई बार इस मौसम में कोरोना संक्रमण की तीसरी लहर का खतरा और वर्षाजनित बीमारियां इन दोनों से बचने के लिए हमें खासी सावधानियां रखना होगी। इस मौसम में स्वस्थ रहने के लिए खानपान का ध्यान रखना तो आवश्यक है ही साथ ही कुछ सावधानियां बरतकर भी स्वस्थ रहा जा सकता है। बदलते मौसम में स्वस्थ कैसे रहें इस बारे में हमने विशेषज्ञों से चर्चा की और उनकी सलाह आप तक पहुंचा रहे हैं।

बाहर के भोजन-पानी और भीड़ से बचें

* इस मौसम में मलेरिया, टाइफाइड, डेंगू, पीलिया, अांखों से संबंधित परेशानी, त्वचा रोग बहुताय से होते हैं इसलिए सावधानी बरतें।

* भीड़ में जाने से बचें।

* बारिश के पानी और कीचड़ से बचें।

* यदि बारिश में भीग भी जाएं तो घर आकर साबुन से नहा लें।

* बाहर का भोजन नहीं करें और साफ पानी पिएं।

* घर के आसपास पानी जमा नहीं होने दें क्योंकि ठहरे पानी में मच्छर आदि पनपते हैं।

* किसी भी संक्रमण या शारीरिक समस्या को हल्के में न लेते हुए तुरंत डाक्टरी सलाह लें।

डा. संजय लोंढ़े, चेस्ट फिजिशियन

तले पदार्थ सीमित मात्रा में खाएं

* फल, सब्जी, प्रोटीन, पानी पर्याप्त मात्रा में लें।

* पेट के विकार ज्यादा होते हैं इसलिए घर से बाहर के कच्चे पदार्थ न खाएं।

* तले पदार्थ का ज्यादा सेवन किया जाता है इसलिए उसकी मात्रा सीमित रखें।

* यदि एक समय गरिष्ठ भोजन किया तो दूसरी तरफ हल्का भोजन लें।

* अंकुरित अनाज स्टीम करके खाएं। यदि स्टीम नहीं करना तो गर्म पानी में डाल लें।

* पत्तेदार सब्जी आदि लेते हैं तो अतिरिक्त सफाई करें।

* घर के बाहर यदि खाना खा रहे हैं तो पत्तेदार सब्जी, फूल गोभी अादि न खाएं।

डा. मुनिरा हुसैन, आहार एवं पोषण विशेषज्ञ

दिन में एक बार काढ़ा जरूर पिएं

* ठंडे पदार्थों से बचें अौर गर्म पानी, गर्भ भोजन लें।

* बासी भोजन नहीं करें।

* पानी को उबालकर ठंडा करने के बाद ही उपयोग में लाएं।

* सीतोपलादी चूर्ण शहद के साथ, पिपली चूर्ण गुनगुने पानी से, वासा (अडूसा) की पत्ती काढ़ा, तुलसी पत्र स्वरस, हल्दी दूध या गुनगुने पानी से लें।

* योगाभ्यास सुबह जरूर करें।

* वर्षा ऋतु में जठराग्नी मंद होने से भोजन पाचन में समस्या अाती है इसलिए सुपाच्चय भोजन करें।

* काढ़े का सेवन दिन में एक बार जरूर करें।

डा. अखिलेष भार्गव, आयुर्वेद विशेषज्ञ

लक्षण के अनुरूप लें दवाएं

* डायरिया होने पर एलो, पोडोफायलम, चायना, नक्सोमेगा में से एक दवा दी जा सकती है।

* खांसी होने पर ब्रायोनिया, इपिकाक, एंडिंनटाट, स्पांजिया या सिपरसल्स दे सकते हैं।

* बुखार महसूस होने पर बेलाडोला या आर्सेनिक दवाई ली जा सकती है।

* मौसम जन्य संक्रमण से बचाव के लिए आर्सेनिक एल्बम भी ली जा सकती है।

* रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए आर्सेनिक एल्बम बेहतर होगी।

* रोग के लक्षण के अनुरूप होम्योपैथी दवा लेकर स्वास्थ्य लाभ पाया जा सकता है।

डा. रमेश अटोलिया, होम्योपैथी चिकित्सक

Posted By: Sameer Deshpande
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.