भुज द प्राइड के फिल्म लेखक अभिषेक दुधैया बोले, देशभक्त का कर्तव्य है नायकों को लोगों के सामने लाए

Updated: | Sun, 05 Sep 2021 01:07 PM (IST)

इंदौर, नईदुनिया प्रतिनिधि । ऐसे कई नायक हैं जिन्होंने देश के लिए जान की भी बाजी लगा दी। कुछ के नाम इतिहास के पन्नाों में दर्ज हैं और कुछ के नहीं। कुछ महानायक ऐसे भी हैं, जिनकी गवाही बेशक इतिहास देता हो लेकिन उनके बारे में बहुत कम लोग जानते हैं। एक देशभक्त का यह भी कर्तव्य है कि वह इतिहास के इन किरदारों, महत्वपूर्ण घटनाओं को लोगों के सामने लाए, ताकि अतीत से वर्तमान को हम भविष्य के लिए प्रेरित कर सकें। सबक सिखा सकें इसलिए अभी 'भुज- द प्राइड आफ इंडिया' फिल्म लिखी व निर्देशित की और अब परमवीर चक्र विजेता बाना सिंह पर फिल्म बनाऊंगा। इसके बाद बालकोट पर फिल्म तैयार की जाएगी।

यह बात फिल्म लेखक व निर्देशक अभिषेक दुधैया ने शहर प्रवास के दौरान नईदुनिया से चर्चा में कही। संस्था मालवा रंगमंच समिति एवम विश्व हिंदी अकादमी के संयुक्त तत्वावधान में शनिवार को प्रीतमलाल दुआ सभागृह में दुधैया का सम्मान किया गया। दुधैया ने भुज फिल्म से जुड़े मुद्दों पर चर्चा करते हुए बताया उन्हें इस घटना की जानकारी उनकी नानी लक्ष्मी परमार से मिली थी जो रनवे बनाने वाली महिलाओं में शामिल थी। बचपन से सुनी उस घटना ने दिल में घर कर लिया और जब मौका मिला तो फिल्म तैयार कर ली।

उन्होंने बताया इसकी कहानी लिखने में दो साल लगे। रनवे बनाने वाली महिलाओं से मिलना एक ऐसा अनुभव रहा जिसे मैं भुला नहीं सकता। हमारे देश में कई ऐसे नायक हैं, जिनके बारे में हमें इतिहास की किताबों में नहीं पढ़ाया गया, जबकि वे हमारे असली हीरो हैं। देश की सुरक्षा के लिए इन्होंने अपनी जान की बाजी लगा दी। मैं ऐसे लोगों की कहानी अपनी फिल्मों के जरिए सबके सामने लाना चाहता हूं, ताकि देश के प्रति अपना फर्ज निभा सकूं।

Posted By: Sameer Deshpande