Today in Indore: इंदौर शहर में आज 21 सितंबर को क्या हैं खास कार्यक्रम, जानिए यहां

Updated: | Tue, 21 Sep 2021 07:48 AM (IST)

Today in Indore: इंदौर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। इंदौर शहर में लाकडाउन खत्म होने के बाद अब कोरोना गाइड लाइन के अनुसार कार्यक्रम के आयोजन शुरू हो गए हैं। इस खबर में 21 सितंबर को दिनभर शहर में होने वाले धार्मिक-सामाजिक, राजनीतिक, सांस्कृतिक सहित विभिन्न संगठनों के कार्यक्रम की जानकारी दे रहे हैं। इससे आप दिनभर की कार्ययोजना बना सकते हैं। मास्क पहनने के साथ शारीरिक दूरी के नियम का पालनकर स्वयं भी सुरक्षित रहें और दूसरों को भी सुरक्षित रखें।

- श्रद्धा सुमन सेवा समिति द्वारा निशुल्क तर्पण महोत्सव हंसदास मठ बड़ा गणपति पर होगा। तर्पण अनुष्ठान 6 अक्टूबर तक प्रतिदिन सुबह 7.30 से 9.30 बजे तक पं. पवन तिवारी के मार्गदर्शन में किया जाएगा। इसमें पूर्वजों, स्वतंत्रता सेनानी, शहीद जवान, इंदौर रियासत के होलकर शासकों की मोक्ष की कामना से तर्पण अनुष्ठान होगा।

- विश्व जागृति मिशन इंदौर मंडल द्वारा सुधांशु महाराज का आनलाइन भक्ति सत्संग सुबह 8 से 9 बजे तक होगा। इसका लाभ 156 देशों के भक्त उठा सकेंगे। सत्संग 26 सितंबर तक प्रतिदिन होगा।

- उपाध्याय प्रवर प्रवीणऋषि महाराज के पर्युषण पर्व आधारित प्रवचन महावीर बाग एरोड्रम रोड पर सुबह 9 बजे से 10.30 बजे तक होंगे। इस अवसर पर शारीरिक दूरी के नियम का पालन करते करने के साथ मास्क लगाना अनिवार्य होगा।

- मप्र जायसवाल कलचुरी महासभा की सात दिनी श्रीमद् भागवत कथा के पहले दिन 21 सितंबर से चौकसे धर्मशाला परदेशीपुरा में होगी। कथा प्रतिदिन दोपहर 2 से शाम 5 बजे तक आचार्य मयंक व्यास के मुखारबिंद से होगी। पहले दिन सुबह 11 बजे कलश यात्रा आयोजन स्थल से निकलेगी। भागवत कथा पितरों के मोक्ष के निमित आयोजित की जा रही है।

- गीता भवन ट्रस्ट के तत्वावधान में आयोजित चातुर्मासिक प्रवचनमाला में गोधरा की साध्वी परमानंदा सरस्वती के प्रवचन गीता भवन में सुबह 9 से 10.30 बजे और शाम 5 से 6 बजे तक होंगे।

- इंदौर के दिगंबर जैन समाज की सामूहिक क्षमावाणी का 100वां आयोजन मंगलवार को कांच मंदिर इतवारिया बाजार में शाम 5.30 बजे होगा। इस अवसर पर शहर में चातुर्मास के लिए विराजित आचार्य विमद सागर और आचार्य प्रणाम सागर एक मंच पर साथ नजर आएंगे। सबसे पहले तीर्थंकरों का अभिषेक होगा। इस मौके पर शहरभर के मंदिरों और संगठनों के साथ समाजजन एकजुट होकर जाने-अनजाने में हुई गलतियों के लिए एक दूसरे से हाथ जोड़कर क्षमा मांगेंगे।

Posted By: Prashant Pandey