Court News Indore: हुकमचंद मिल के मजदूरों को करना होगा इंतजार, कोर्ट ने कहा पहले यह तय करेंगे कि लीज निरस्ती पर सुनवाई कर सकते हैं या नहीं

Updated: | Wed, 04 Aug 2021 05:30 PM (IST)

इंदौर, नईदुनिया प्रतिनिधि Court News Indore। तीन दशक से अपने हक के लिए न्यायालयों के चक्कर काट रहे हुकमचंद मिल के हजारों मजदूरों को न्याय के लिए अभी और इंतजार करना पड़ेगा। मिल की जमीन को लेकर हाई कोर्ट में चल रही याचिका में बुधवार को बहस होना थी, लेकिन टल गई। कोर्ट ने कहा पहले तो यह तय किया जाना चाहिए कि लीज निरस्ती मामले में कोर्ट सुनवाई कर सकती है या नहीं। अब दो सप्ताह बाद इस मुद्दे को लेकर बहस होगी।

गौरतलब है कि 12 दिसंबर 1991 को हुकमचंद मिल बंद हुआ था। इसके बाद से मिल के 5895 मजदूर बकाया भुगतान के लिए भटक रहे हैं। करीब एक दशक पहले कोर्ट ने मिल की जमीन बेचकर मजदूरों का भुगतान करने के आदेश दिए थे लेकिन सात बार नीलामी की निविदा निकालने के बावजूद जमीन बिक नहीं सकी। शासन ने मिल की जमीन का लैंड यूज बदल दिया। इसके बाद उम्मीद जताई जा रही थी कि जमीन अच्छे दाम पर बिक जाएगी और मजदूरों का भुगतान हो जाएगा, लेकिन मामला एक बार फिर उस वक्त अटक गया जब डेढ साल पहले निगम परिषद की अंतिम बैठक में नगर निगम ने जमीन की लीज निरस्त करने का प्रस्ताव पास कर दिया।

फिलहाल लीज निरस्ती का मामला भोपाल में अटका हुआ है। बुधवार को इसी को लेकर बहस होना थी जो टल गई। मजदूरों की ओर से पैरवी कर रहे एडवोकेट धीरजसिंह पवार ने बताया कि बुधवार की सुनवाई में कोर्ट ने कहा कि सबसे पहले तो यह तय किया जाना चाहिए कि जमीन की लीज निरस्ती को लेकर कोर्ट सुनवाई कर सकती है या नहीं। अगली सुनाई दो सप्ताह बाद होगी।

Posted By: Sameer Deshpande