HamburgerMenuButton

जबलपुर में दो साल से पेंशन के लिए मोहताज महिला को मिली 24 घंटे में राहत

Updated: | Thu, 29 Oct 2020 10:11 PM (IST)

जबलपुर (नईदुनिया प्रतिनिधि)।

आदिवासी विकास विभाग में पदस्थ पति की मौत के बाद पत्नी को न्यूनतम पेंशन एक साल देने के बाद बंद कर दी गई। 2018 से पत्नी दो साल तक कार्यालयों के चक्कर लगाती रही, लेकिन उसकी समस्या का समाधान नहीं हो सका। केयर बाय कलेक्टर के वाट्सएप नंबर पर जब सावित्री पौराणिक ने शिकायत दर्ज करा दी तो 24 घंटे के भीतर उनकी पेंशन प्रारंभ हो गई। इसी तरह के अन्य प्रकरणों में भी लोगों को तत्काल मदद मिली है।

ये है मामला-

-सावित्री पौराणिक के पति राकेश तिवारी की मृत्यु के बाद पूरी पेंशन जारी नहीं हुई। नियम कहता है कि ऐसी स्थिति में न्यूनतम पेंशन पत्नी को मिलनी चाहिए। एक साल तक तो पेंशन कोषालय से जारी की गई। लेकिन किन्हीं कारणों से 2019 से पेंशन खाते में नहीं पहुंची। आदिवासी विकास विभाग से लेकर जिला और संभागीय पेंशन कार्यालय के अलावा कोषालय के अधिकारियों को शिकायत भी सौंपी गई। मामले में नया मोड़ तब आया जब पत्नी ने केयर बाय कलेक्टर के वाट्सएप पर अपनी शिकायत दर्ज करा दी। कलेक्टर कर्मवीर शर्मा के व्यक्तिगत नंबर पर दर्ज होने वाली शिकायत को कुछ देर बाद ही जिला कोषालय अधिकारी तक पहुंचाया गया। कोषालय वालों ने सभी रिकार्ड देखे और दो साल से उलझी समस्या का 24 घंटे के भीतर कर दिया।

लंबित रखने वालों पर हो कार्रवाई-

नियम तो यह भी कहता है कि जो अधिकारी-कर्मचारी लापरवाही के लिए जिम्मेदार हैं, उनके खिलाफ भी कार्रवाई होनी चाहिए। लेकिन वर्तमान में जिला प्रशासन यानी कलेक्टर का फोकस शिकायतों का तत्काल निराकरण करना है। इसलिए किसी भी लापरवाह कर्मचारी-अधिकारी पर कार्रवाई नहीं की जा रही है।

रोज 40 से ज्यादा शिकायत दर्ज-

केयर बाय कलेक्टर के वाट्सएप नंबर 7587970500 को प्रारंभ किए लगभग 20 दिन हो चुके हैं। इस बीच रोज 40 से 50 शिकायत इस नंबर पर दर्ज होती हैं। राशन कार्ड, पात्रता पर्ची से लेकर प्रापर्टी के मामले, नगर निगम, पुलिस विभाग सहित अन्य विभागों की समस्या लोग दर्ज करा रहे हैं।

Posted By: Brajesh Shukla
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.