बिजली कंपनी जबलपुर: गुपचुप ढंग से 2022-23 के लिए बिजली दर बढ़ाने का प्रस्ताव आयोग पहुंचा

Updated: | Sun, 05 Dec 2021 06:45 AM (IST)

जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। मप्र पावर मैनेजमेंट कंपनी ने साल 2022—23 के लिए बिजली की दर बढ़ाने का प्रस्ताव तैयार कर लिया है। प्रस्ताव को विगत 30 नवंबर को मप्र विद्युत नियामक आयोग के पास जमा कर दिया गया है। इस प्रस्ताव पर आयोग की तरफ से 14 दिसंबर को प्रारंभिक सुनवाई तय हुई है।

पावर मैनेजमेंट कंपनी ने प्रस्ताव को लेकर अभी तक कोई खुलासा नहीं किया है। इस बार पूरी तरह से गोपनीय ढंग से प्रस्ताव आयोग में भेजा गया है। अधिकारी भी इस मामले में फिलहाल खामोश है। पावर मैनेजमेंट कंपनी के सीजीएम ट्रैरिफ फिरोज मैश्राम ने कहा कि आयोग की अनुमति के बिना प्रस्ताव की जानकारी नहीं दी जा सकती है। उन्होंने कहा कि आयोग की तरफ से ही प्रस्ताव सार्वजनिक किया जाएगा। जिस पर अपत्ति दर्ज होगी। इधर बिजली मामलों के जानकार एडवोकेट राजेंद्र अग्रवाल ने कहा कि विद्युत नियामक आयोग की तरफ से वर्ष 2022—23 के लिए खुदरा टैरिफ निर्धारण के लिए नियम ही तय नहीं हुए है ऐसे में बिना नियम के खुदरा टैरिफ याचिका लगाना नियम संगत नहीं है।

पूर्व क्षेत्र कंपनी प्रबंधन के खिलाफ जलाया पुतला: पूर्व क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी प्रबंधन के खिलाफ मध्य भारत ठेकेदार संघ का गुस्सा निकला। ठेकेदारों ने पुतला दहन किया। इसके पश्चात अफसरों की तेंरहवी की। ठेकेदार संघ के जर्नादन प्रताप सिंह दुबे ने कहा कि जानबूझकर अफसर सौभाग्य योजना में हुए कार्यो का भुगतान नहीं कर रहे हैं। ऐसे में ठेकेदारों के सामने आर्थिक संकट आ गया है। ठेकेदार भुगतान को लेकर 13 दिन से अनशन कर रह हैं। शक्ति भवन मुख्यालय के बाद ठेकेदारों ने अस्थाई टेंट लगाया हुआ है।

Posted By: Ravindra Suhane