Fake Oil in Jabalpur: आपकी गाड़ी की सेहत खराब कर सकती है जालसाजों की यह हरकत, पढ़िए चौंकाने वाली खबर

Updated: | Wed, 27 Oct 2021 12:05 PM (IST)

जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। नामी कंपनियों के नकली आयल व वाहनों के स्पेयर पार्टस के कारोबार का पुलिस ने भांडाफोड़ किया है। क्रेशर बस्ती सगड़ा, शास्त्री नगर तथा कूड़न स्थित तीन गाेदामों में दबिश देकर पुलिस ने 20 ड्रमों में भरा चार हजार लीटर नकली आयल व वाहनों के कलपुर्जे जब्त किए हैं।

गोदामों में पैकिंग का सामान, होलोग्राम, गिफ्ट कूपन आदि पाया गया। जिसका उपयोग कर लूज आयल व स्पेयर पार्टस को नामी कंपनियों के नाम पर पैक किया जा रहा था। पुलिस टीम ने गोदाम संचालक समेत तीन लोगों को गिरफ्तार किया है। हैरानी की बात यह है कि नकली आयल व स्पेयर पाट्र्स का कारोबार अकेले जबलपुर नहीं बल्कि मंडला, डिंडौरी, छिंदवाड़ा, नरसिंहपुर तथा महाराष्ट्र तक फैला हुआ है। गोदामों से जब्त सामाग्री की कीमत करीब 15 लाख रुपये आंकी गई है। पुलिस ने गोदामों को सील कर दिया है।

यह है मामला: बरगी सीएसपी प्रियंका शुक्ला आइपीएस ने बताया कि पुलिस अधीक्षक सिद्धार्थ बहुगुणा काे मुखबिर से सूचना मिली थी। मुखबिर ने बताया कि प्रेम नगर पोस्ट आफिस के समीप गढ़ा निवासी दीपक नैयर ब्रांडेड कंपनियों के नाम से नकली इंजन व गियर आयल तथा वाहनों के स्पेयर पार्टस बेच रहा है। सगड़ा क्रेशर बस्ती में एक बैंक के पास वेद आटो नाम से गोदाम बनाकर उसने आयल व स्पेयर पार्टस का भंडारण किया है। पुलिस अधीक्षक ने अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक ग्रामीण शिवेश सिंह बघेल को कार्रवाई के लिए निर्देशित किया। जिसके बाद नैयर के गोदामाें में दबिश दी गई।

पुलिस टीम को देख फटी रह गई आंखें: पुलिस टीम ने वेद आटो गोदाम में दबिश दी। जहां रात में बंद गोदाम के भीतर पैकिंग का काम चल रहा था। पुलिस ने गोदाम खुलवाया जहां डिंपल उर्फ दीपक चौधरी 34 वर्ष, सोनू चौधरी 38 वर्ष दोनों निवासी परसवाड़ा संजीवनीनगर तथा दीपक नैयर 29 वर्ष मिले। रात में गोदाम में क्या काम चल रहा है, पुलिस के इस सवाल पर तीनों की आंखें फटी रह गईं। गोदाम की जांच की गई तो इंजन व गियर आयल बनाने वाली नामी कंपनियों के रैपर, प्लास्टिक की बोतलें, स्पेयर पाट्र्स, होलाेग्राम के स्टीकर, खाली डिब्बे, कार्टून मिले। पूछताछ में तीनों ने स्वीकार किया कि वे बाजार से लूज आयल व लाेकल स्पेयर पाट्र्स खरीदकर नामी कंपनियों का लेबल लगाकर उनकी बिक्री करते हैं। इसके लिए क्रेशर बस्ती सगड़ा, शास्त्री नगर तथा कूड़न में तीन गोदाम बनाए गए हैं।

इनकी रही भूमिका: आरोपितों की गिरफ्तारी में थाना प्रभारी तिलवारा प्रशिक्षु डीएसपी राहुल कुमार सैय्याम, उप निरीक्षक लेखराम नादौनिया, विनोद द्विवेदी, प्रधान आरक्षक लखन निषाद, आरक्षक युवराज ठाकरे, शशांक परिहार, उदय यादव की भूमिका रही। नामी कंपनियों के नाम पर नकली सामान बेचने वाले दीपक नैयर, डिंपल उर्फ दीपक चौधरी एवं सोनू चौधरी के खिलाफ धारा 285, 420, 468, 471, 120 बी एवं 3/7 ईसी एक्ट, 103, 104 ट्रेडमार्क अधिनियम के तहत एफआइआर दर्ज की गई है।

Posted By: Ravindra Suhane