HamburgerMenuButton

Fake Remdesivir Racket in Jabalpur: मोखा साफ कहता था, इंजेक्शन के नाम पर कुछ भी लाओ सब चलेगा

Updated: | Tue, 22 Jun 2021 08:54 AM (IST)

जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। एसआइटी की पूछताछ में सपन जैन ने दावा किया है कि सिटी हॉस्पिटल के डायरेक्टर सरबजीत सिंह मोखा को पता था कि रेमडेसिविर इंजेक्शन नकली हैं। परंतु वे यही कहते थे कि इंजेक्शन के नाम पर कुछ भी लाओ सब चलेगा। सपन के इस बयान के बाद मोखा की मुश्किलें और बढ़ती जा रही हैं।

इधर, गुजरात से प्रोडक्शन वारंट पर लाए गए चारों आरोपितों से पूछताछ की जा चुकी है। सोमवार शाम उन्हें कोर्ट में पेश किया गया। मंगलवार को पुलिस आरोपितों को पहुंचाने गुजरात जाएगी। उनके साथ सेंट्रल जेल में बंद सिटी हॉस्पिटल के फार्मासिस्ट देवेश चौरसिया को भी गुजरात ले जाने की तैयारी है। गुजरात पुलिस ने उसके खिलाफ प्रोडक्शन वारंट जारी कराया है। आरोपितों ने बताया कि एक नकली रेमडेसिविर इंजेक्शन के निर्माण में 50 रुपये खर्च आता था। सुनील मिश्रा को उन्होंने 17 सौ रुपये में इंजेक्शन बेचा था। जिसे सुनील ने सपन जैन को तीन हजार रुपये में बेच दिया। सपन ने वही इंजेक्शन मोखा को 48 सौ में बेचने का सौदा किया था। इधर, सिटी हॉस्पिटल के खिलाफ की गई शिकायतों में भी रेमडेसविर इंजेक्शन के लिए 17-18 हजार रुपये वसूली की शिकायतें भी एसआइटी तक पहुंची हैं।

गुजरात व इंदौर पुलिस से मांगे दस्तावेज: इधर, एसआइटी ने गुजरात व इंदौर पुलिस से नकली रेमडेसिविर इंजेक्शन प्रकरण में की गई कार्रवाई से संबंधित दस्तावेजों की मांग की है। ताकि यह पता लगाया जा सके कि दोनों शहरों में पुलिस की जांच पड़ताल में क्या महत्वपूर्ण सुराग हाथ लगे हैं। एसआइटी प्रमुख रोहित काशवानी ने बताया कि पुलिस की विवेचना अंतिम चरण में है। इंदौर व गुजरात से दस्तावेज मिलने के बाद नियमानुसार चार्जशीट पेश करने की कार्रवाई की जाएगी।

यह है मामला: गुजरात पुलिस ने नकली रेमडेसिविर इंजेक्शन के कारोबार में जबलपुर अधारताल निवासी सपन जैन को गिरफ्तार किया था। जिसके बाद सिटी हॉस्पिटल में 500 नकली इंजेक्शन खरीदे जाने की जानकारी सामने आई। सपन के बयान के आधार पर जबलपुर पुलिस ने अस्पताल के डायरेक्टर सरबजीत सिंह मोखा, देवेश चौरसिया, सोनिया खत्री समेत सरबजीत की पत्नी सिमरत व बेटे हरकरण समेत 10 लोगों के खिलाफ एफआइआर दर्ज की थी। मोखा समेत छह आरोपित सेंट्रल जेल में बंद हैं। गुजरात पुलिस की गिरफ्त में आए सुनील मिश्रा, सपन जैन, कौशल वोरा व पुनीत शाह को जबलपुर पुलिस ने प्रोडक्शन रिमांड लिया था। चारों से चार दिन तक चली पूछताछ चलती रही।

Posted By: Ravindra Suhane
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.