Ganesh Visarjan 2021: गणेश प्रतिमाओं की विदाई, पितरों की हुई अगवानी

Updated: | Mon, 20 Sep 2021 02:50 PM (IST)

जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। नर्मदातटों पर सोमवार की सुबह ही श्रद्धालुओं की भीड़ नजर आने लगी थी। गणेश प्रतिमाओं के विसर्जन के लिए पहुंचने वालों के साथ ही पितरों की अगवानी करने भी लोग सुबह ही तटों पर पहुंच गए थे। एक ओर भगवान गणेश को अगले बरस तू जल्दी आ..... के जयकारों के साथ विदाई जा रही थी तो दूसरी ओर पितरों की अगवानी का मनोरम दृश्य नजर आ रहा था।

गणेशोत्सव पर घर-घर विराजीं गणेश प्रतिमाओं की विदाई का सिलसिला रविवार की सुबह से ही शुरू हो गया था जो देर रात तक जारी रही। पूरे दिन में करीब पांच हजार प्रतिमाओं का विसर्जन किया गया। सोमवार की सुबह भी यह क्रम थमा नहीं लोग गणेश प्रतिमाओं को विसर्जन के लिए लेकर नर्मदा तट पर बने विसर्जन कुंड तक पहुंचते रहे। इसके अलावा नगर निगम द्वारा भी चौराहों पर व्यवस्थाएं की गईं। बड़े ड्रम में नर्मदा जल रखकर उनमें गणेश प्रतिमाओं का विसर्जन करवाया गया। लोगों ने नगर निगम की इस परंपरा को भी पूरा सम्मान दिया और अपनी गणेश प्रतिमाओं का ड्रम में ही विसर्जन किया।

वहीं सोमवार को पूर्णिमा के अवसर पर लोगों नर्मदातटों पर पहुंचकर पूरे नियम और भक्ति भाव के साथ पितरों की आमंत्रित किया। मंगलवार से महालय यानी तर्पण का काम शुरू हो रहा है। इसलिए एक दिन पूर्व ही ग्वारीघाट पहुंचकर न सिर्फ मंुडन कराया बल्कि नर्मदा की बहती धारा में खड़े होकर पितरों को महालय पर्व के लिए आमंत्रित भी किया। महालय पर्व 15 दिन तक चलना है। इस दौरान लोग नर्मदातटों के अलावा तालाबों और घरों में भी अपने-अपने पितरों को पानी देकर तर्पण करेंगे। अमावस्या पर श्राद के साथ पितरों की विदाई की जाएगी।

Posted By: Ravindra Suhane