कौशल विकास का मुख्यालय जबलपुर में लेकिन संचालन भोपाल से

Updated: | Sat, 27 Nov 2021 07:10 AM (IST)

जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। मध्यप्रदेश जागरूक अधिकारी कर्मचारी संयुक्त समन्वय समिति ने लगाए कौशल विकास निगम बीके कामकाज पर सवाल उठाए है। संगठन के प्रांतीय सचिव इस स्टेनली नाबर्ट ने जारी बयान में बताया कि संचालनालय कौशल विकास मध्य प्रदेश का मुख्यालय है तो जबलपुर में लेकिन संचालन भोपाल से किया जा रहा है। आरोप है की यह कार्यालय जबलपुर में सन 1956 से स्थापित है। आइटीआइ के मुख्यालय को भोपाल ले जाने के लगातार नए नए प्रयास किए जा रहे हैं। साथ ही भोपाल में कार्यालीन लिपकीय कार्य के लिए आइटीआइ में पदस्थ शिक्षकों को मनमाने ढंग से संलग्न, पदस्थ किया जा रहा है। समिति के राम प्रसाद खनाल, जियाउररहीम, कैलाश शर्मा, सुनील झारिया, उमेश ठाकुर, रवि जैन, मानसिंह आर्मो, नेतराम झारिया, समर सिंह ठाकुर, धीरेंद्र श्रीवास्तव, दयाराम बेलवंशी, सतीश दुबे, देवेंद्र पटेल आदि ने शासन से मांग की है कि अधिकारी वर्ग मुख्यालय में ही रहकर कार्य करें इस संबंध में आदेश जारी किए जाएं।

प्रभारी मंत्री से मिले पेंशनर्स बयां की पीड़ा: गत दिवस नगर प्रवास रहे प्रभारी मंत्री गोपाल भार्गव से मिलकर पेंशनरों ने अपनी पीड़ा बयां की। पेंशनर्स एसोसिएशन मध्यप्रदेश के अध्यक्ष एचपी उरमलिया ने जारी बयान में बताया कि उन्होंने प्रभारी मंत्री को अवगत कराया कि उन्हें पेंशनरों को महज 12 प्रतिशत ही महंगाई राहत दी जा रही है। जिससे बढ़ती महंगाई में परिवार चला पाना मुश्किल हो रहा है। प्रभारी मंत्री आश्वासन दिया है कि वे इस संबंध में मुख्यमंत्री से चर्चा करेंगे। इस अवसर पर अरुण सलारिया, शेषमणि पांडे, गौरी शंकर पांडे, आरजी गर्ग आदि मौजूद रहे।

Posted By: Brajesh Shukla