हाई कोर्ट बार की पहल लाई रंग, हाई कोर्ट प्रशासन ने अन्याय न होने का दिलाया भरोसा

Updated: | Thu, 21 Oct 2021 12:41 PM (IST)

जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। मध्य प्रदेश हाई कोर्ट की मुख्यपीठ शब्द विलोपित करके जबलपुर का हक मारे जाने के रवैये के खिलाफ हाई कोर्ट बार की पहल रंग लाई है। हाई कोर्ट बार अध्यक्ष रमन पटेल ने जिस बेबाकी से बिना किसी झिझक के अपनी बात नवागत मुख्य न्यायाधीश के सामने रखी, उससे मुख्य न्यायाधीश प्रभावित हुए और उन्होंने बिना देर किए रजिस्ट्रार जनरल को दिशा-निर्देश जारी कर दिए। जिसका नतीजा यह हुआ कि हाई कोर्ट प्रशासन को इस दिशा में गंभीरता बरतनी पड़ी। आनन-फानन में हाई कोर्ट बार प्रतिनिधि मंडल को बातचीत के लिए बुला लिया गया। जिसके बाद अन्याय न होने का भरोसा दिलाया गया।

उल्लेखनीय है कि मध्य प्रदेश हाई कोर्ट के नवागत मुख्य न्यायाधीश रवि विजय कुमार मलिमथ के स्वागत समारोह में अपने संबोधन के दौरान हाई कोर्ट बार एसोसिएशन, जबलपुर के अध्यक्ष रमन पटेल ने मुख्यपीठ शब्द विलोपित किए जाने का मुद्दा उठाया। उन्होंने जबलपुर को मध्य प्रदेश हाई कोर्ट की मुख्यपीठ होने के गौरव से वंचित किए जाने के रवैये की निंदा की।

इस आपत्ति को गंभीरता से लेकर मुख्य न्यायाधीश ने रजिस्ट्रार जनरल को दिशा-निर्देश जारी किए। जिसके परिपालन में रजिस्ट्रार जनरल राजेंद्र कुमार वानी के आमंत्रण पर हाई कोर्ट बार एसोसिएशन, जबलपुर के अध्यक्ष रमन पटेल, वरिष्ठ उपाध्यक्ष परितोष त्रिवेदी, उपाध्यक्ष शंभूदयाल गुप्ता, अधिवक्ता पीसी पालीवाल, कार्यकारिणी सदस्य प्रियंका मिश्रा, योगेश सोनी, यश सोनी, मनोज कुमार रजक, अजय शुक्ला और रूपेश पटेल सहित अन्य मिलने पहुंचे। बातचीत के दौरान रजिस्ट्रार जनरल से हाई कोर्ट बार को अपनी आपत्ति के संदर्भ में ज्ञापन प्रस्तुत करने का सुझाव दिया। साथ ही भरोसा दिलाया कि जबलपुर के साथ कोई नाइंसाफी नहीं होने दी जाएगी। यदि मुख्यपीठ शब्द विलोपित करने संबंधी अधिसूचना से जबलपुर के वकीलों को एतराज है, तो इस शिकायत को दूर करने दिशा में समुचित कार्रवाई की जाएगी।

Posted By: Ravindra Suhane