हामिद हुसैन पर चला जबलपुर जिला प्रशासन का चाबुक, नहीं बेच पाएगा 15 एकड़ व 63 हजार 400 वर्गफीट जमीन

Updated: | Sun, 28 Nov 2021 10:15 AM (IST)

जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। पुलिस के बाद प्रशासन ने हामिद हुसैन पर शिकंजा कस दिया है। हामिद के बेटे गुलाम हसन को दुष्कर्म के आरोप में गिरफ्तार कर पुलिस जेल भेज चुकी है। जिसके बाद शनिवार को पिता हामिद की जमीनों की खरीद फरोख्त पर प्रशासन ने रोक लगा दी।

कलेक्टर कर्मवीर शर्मा के निर्देश पर एसडीएम अधारताल नम: शिवाय अरजरिया ने उसकी 63 हजार 400 वर्गफीट जमीन को अहस्तांतरणीय घोषित कर दिया है। नगर निगम की अनुमति तथा नगर एवं ग्राम निवेश से बिना अभिविन्यास स्वीकृत कराए उक्त जमीन पर हामिद अवैध रूप से प्लाटिंग कर रहा था। एसडीएम अरजरिया ने बताया कि दक्षिण मिलौनीगंज निवासी हामिद हुसैन मौजा अमखेरा के खसरा नंबर 129/4/1/1 की दो भागों में प्लाटिंग कर रहा था।

उसके खिलाफ उक्त भूमि पर अवैध रूप से प्लाटिंग करने की शिकायत प्राप्त हुई थी। वहीं ग्राम बैतला में भी हामिद हुसैन करीब 15 एकड़ भूमि में प्लाटिंग कर रहा था। उक्त भूमि काे भी राजस्व रिकार्ड में अहस्तांतरणीय घोषित कर दिया है। राजस्व अधिकारियों व पटवारी के प्रतिवेदन पर कार्रवाई की गई। एसडीएम ने बताया कि मौजा अमखेरा पटवारी हल्का नंबर 80 में खसरा नंबर 129/4/1/1 की 63 हजार 400 वर्गफीट जमीन पर हामिद हुसैन द्वारा अवैध रूप से प्लाटिंग का प्रतिवेदन प्रस्तुत किया गया था। अतिरिक्त तहसीलदार ने प्रतिवेदन में उल्लेख किया था कि भूमि स्वामी हामिद हुसैन द्वारा नगर निगम की सक्षम अनुमतियां प्राप्त किए बगैर तथा नगर एवं ग्राम निवेश अभिविन्यास स्वीकृत कराए बिना भूमि को खंड-खंड कर बेचा जा रहा है। परिणाम स्वरूप अवैध कालोनी के निर्माण होने की संभावना है। प्रतिवेदन में कहा गया था कि छोटे-छोटे भू-खंडों के रूप में भूमि का विक्रय कर अवैध प्लाटिंग करने से सड़क एवं नाली का रकवा सुरक्षित रखा जाना आवश्यक हो गया है।

इसी प्रकार अनुविभागीय अधिकारी अधारताल ने ग्राम बैतला के पटवारी हल्का नंबर-01 खसरा नंबर 189/1 में हामिद हुसैन के नाम दर्ज लगभग 15 एकड़ भूमि को राजस्व अभिलेखों में अहस्तांतरणीय भूमि दर्ज करने का आदेश पारित किया है। पटवारी के प्रतिवेदन में कहा गया था कि इस भूमि पर हामिद हुसैन ने अवैध रूप से प्लाटिंग की है। इस मामले में उसके विरुद्ध नगर निगम के कालोनी सेल की ओर से अधारताल थाने में तीन फरवरी 2018 को एफआइआर दर्ज कराई गई थी।

Posted By: Ravindra Suhane