राष्ट्रीय एसोसिएशन से भी पुरानी है जबलपुर आइएमए के 100 वर्ष पूरे, राष्ट्रीय संगोष्ठी 11 से

Updated: | Tue, 30 Nov 2021 09:11 AM (IST)

जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। इंडियन मेडिकल एसोसिएशन जबलपुर शाखा के 100 वर्ष पूर्ण होने पर 11 एवं 12 दिसंबर को राष्ट्रीय संगोष्ठी का आयोजन किया जा रहा है। संगोष्ठी में देश भर से अनेक चिकित्सक शामिल होंगे। एसोसिएशन के अध्यक्ष डॉ. पवन स्थापक ने उक्त जानकारी पत्रकार वार्ता में दी। उन्होंने बताया कि दो दिवसीय संगोष्ठी में चिकित्सा विज्ञान में हो रहे नवीन प्रयोग एव तकनीक पर व्याख्यानमाला होगी। नए शोध पत्र प्रस्तुत किए जाएंगे। आयोजन अध्यक्ष डॉ. जितेंद्र जामदार एवं सचिव डॉ. संगीता श्रीवास्तव ने संगोष्ठी के महत्व पर प्रकाश डाला। उन्होंने कहा कि 1921 में जबलपुर के 7 चिकित्सकों से आइएमए की जिला शाखा का गठन हुआ था। जराष्ट्रीय इंडियन मेडिकल एसोसिएशन की शुरुआत उसके बाद 1928 में हुई थी। संगोष्ठी के जरिए पहली कार्यकारिणी में शामिल चिकित्सकों को श्रद्धांजलि दी जाएगी। डॉ. परिमल स्वामी, डॉ. वीरेंद्र भारद्वाज, डॉ. अमरेंद्र पांडे, डॉ. रूप मांडवे मौजूद रहे।

हड़ताल से लौटे जूनियर डाक्टर, दी चेतावनी: नेताजी सुभाष चंद्र बोस मेडिकल कालेज अस्पताल के जूनियर डाक्टरों ने हड़ताल खत्म कर दी। जूनियर डाक्टर एसोसिएशन के पदाधिकारियों ने डीन कार्यालय के समक्ष विरोध प्रदर्शन किया। नीट पीजी काउंसलिंग की मांग कर नारेबाजी की। कुछ देर चले प्रदर्शन के बाद जूडा ने काम पर लौटने की घोषणा कर दी। उन्होंने चेतावनी दी कि बुधवार तक मांग पूरी न हुई तो शाम छह बजे के बाद वे अनिश्चितकालीन हड़ताल पर जा सकते हैं। जूडा अध्यक्ष डॉ. पंकज सिंह ने कहा कि उनकी मांग जायज है। इधर जूनियर डॉक्टरों की चेतावनी के बाद मेडिकल कॉलेज अस्पताल प्रशासन ने चिकित्सकों को आकस्मिक परिस्थिति में वार्ड ड्यूटी करने के निर्देश दिए हैं।

Posted By: Ravindra Suhane