Jabalpur News: भाजपा नेता के घर की बिजली काटी तो किया विवाद, विरोध में रखा ब्लैक आउट

Updated: | Sat, 25 Sep 2021 12:56 PM (IST)

जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। बकाया बताकर बिजली कनेक्शन काटने पहुंचे स्टाफ से कुछ लोगों ने कहासुनी कर दी। मामला तब बिगड़ा जब भाजपा नेता के घर की ही बिजली कट गई। लाइन स्टाफ ने बकाया बिल होने का हवाला दिया। इस मामले में खफा भाजपा नेता ने हंगामा कर दिया। लाइन स्टाफ से अभद्रता की। जिसके खिलाफ बिजली कर्मी थाने मामला दर्ज करवाने पहुंच गए। काफी देर सुनवाई नहीं हुई तो इलाके में विरोध स्वरूप ब्लैक आउट कर दिया गया। करीब तीन घंटे तक सप्लाई बंद रही। बाद में राजनीतिक दखल से समझौते से मामले का पटाक्षेप हुआ।

क्या था मामला: भाजपा युवा मोर्चा का जिला महामंत्री श्रीकांत परिहार वार्ड नंबर 9 में निवास करता है। उसके घर की बिजली कनेक्शन काट दिया गया। सुबह बिजली अमला पहुंचा तो उन्होंने बिल बकाया बताते हुए कार्रवाई की। श्रीकांत परिहार ने कहा कि उनके आसपास के घरों पर 900 से 1500 रुपये बिजली बिल बकाया होने पर कनेक्शन काटे। स्टाफ से कहा गया कि बिना पूर्व सूचना के ऐसा करना सहीं नहीं है। जिसके बाद उन्होंने मेरे घर की बिजली काट दी। जबकि मेरा बिल जमा हो चुका था। इधर शहपुरा थाना प्रभारी प्रियंका केवट ने कहा कि बिजली कर्मियों के साथ विवाद हुआ लेकिन बाद में समझौता हो गया।

उन्होंने बताया कि उपभोक्ता श्रीकांत परिहार ने सुबह बिल जमा कर दिया था लेकिन बिजली कर्मियों ने कनेक्शन काट दिया जिसके बाद विवाद हुआ। इधर बिजली कर्मियों की तरफ से सहायक अभियंता शैलेंद्र सिंह चौहान ने थाने में शिकायत दी। जिसमें कहा गया कि लाइनमेन सूरजमल बारिया एवं अन्य टीम के सदस्यों ने जब कनेक्शन काटने गए तब श्रीकांत परिहार पिता चोखे सिंह ने लाइन मेन को अपशब्द कहे। उन्हें गंदी गालियां दी। इसके अलावा शासकीय कार्य में बाधा पहुंचाने का प्रयास किया। पूरे मामले में जब पुलिस थाने में सुनवाई नहीं हुई तो बिजली कर्मियों ने खफा होकर सप्लाई ही पूरे इलाके में बंद कर दी। वो आरोपित के खिलाफ मामला दर्ज करवाने की मांग पर अडे रहे। बाद में भाजपा के वरिष्ठ नेताओं ने बिजली अधिकारियों से संपर्क कर समझौता करवाया।

घटना का वीडियों भी: बिजली कर्मियों ने मौके का वीडियों भी बनाया। जिसमें युवक बिजली कर्मियों के साथ अभद्रता करते दिख रहे हैं। उन्होंने बिजली कर्मियों को थाने में जाकर रिपोर्ट दर्ज करवाने की खुली चुनौती भी दी। इधर पूरे मामले से जबलपुर ग्रामीण के अधीक्षण यंत्री अनभिज्ञ रहे। उन्होंने कहा कि उनके पास कार्यपालन अभियंता पाटन की तरफ से काेई जानकारी नहीं आई है।

Posted By: Ravindra Suhane