Jabalpur News : सीएम हेल्पलाइन इंदौर, भोपाल को पीछे छोड़ तीसरे पायदान पर अपना जबलपुर

Updated: | Thu, 21 Oct 2021 05:30 PM (IST)

जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। सीएम हेल्पलाइन के प्रकरण निपटाने में भी जबलपुर इस बार अव्वल रहा। 20 अक्टूबर 2021 को जारी सितंबर माह की निकायवार ग्रेडिंग में जबलपुर निकाय इंदौर भोपाल और ग्वालियर को पीछे छोड़ ए ग्रेड के साथ तीसरे पायदान पर रहा। जबकि इंदौर आठवें, ग्वालियर 11वें और भोपाल सबसे पीछे 16वें स्थान पर रहा। खास बात यह है कि अगस्त माह की ग्रेडिंग में जबलपुर सबसे पीछे 16वें स्थान पर था। जबकि ग्वालियर पांचवे, इंदौर 11वें और भोपाल 14वें स्थान पर था। लेकिन सितंबर माह में जबलपुर ने सीएम हेल्पलाइन के प्रकरणों का निराकरण करने में ऐसा जोर लगाया कि छलांग मारकर 16वें से सीधे तीसरे स्थान पर आ गया। जबलपुर नगर निगम ने तीन हजार 515 शिकायतों का निराकरण 86.8 फीसद अंक अर्जित कर ए ग्रेड हासिल किया है। जबकि रतलाम 1220 शिकायतों का निराकरण 92.46 फीसद अंक हासिल कर पहले पायदान पर है। दूसरे नंबर पर सिंगरौली निकाय है।

निगमायुक्त ने कसी लगाम : बताया जाता है कि अगस्त माह में जबलपुर नगर निगम की ग्रेडिंग पिछड़ने के बाद निगमायुक्त संदीप जीआर नाराजगी जताते हुए ग्रेडिंग में सुधाने के निर्देश दिए थे। नजीता ये हुआ कि सितंबर माह की ग्रेडिंग में जबलपुर तीसरे नंबर पर आ गया। सीएम हेल्पलाइन में आई तीन हजार 515 शिकायतों में से 47 फीसद शिकायतों को संतुष्टि के साथ निराकरण कर बंद किया गया। जबकि वेटेज स्कोर भी तय गाइडलाइन के तहत 80 फीसद अंक से ज्यादा 86.8 फीसद अंक अर्जित कर ए ग्रेड हासिल किया।

ऐसा रहा ग्रेडिंग में जबलपुर का प्रदर्शन :

निकाय - अंक मिले - ग्रेडिंग

जबलपुर - 86.8 - ए

इंदौर - 83.93 - ए

ग्वालियर - 82.38 - ए

भोपाल - 78.76 - बी

बिजली, सफाई, अतिक्रमण की सर्वाधिक शिकायतें :

नगर निगम में बिजली, सफाई और अतिक्रमण की ज्यादातर शिकायतें पहुंचती हैं। नगर निगम में शिकायतों का जब निराकरण नहीं होता तो लोग सीएम हेल्पलाइन में शिकायत कर देते हैं। जिसमें सफाई न होने, स्ट्रीट लाइट न जलने और अतिक्रमण करने जैसी शिकायतें सीएम हेल्पलाइन में जब पहुंच जाती है तो उसका निराकरण भी समय पर नहीं किया जाता। बिना शिकायतकर्ता की संतुष्टि के उसे बंद कर दी जाती है। लिहाजा शिकायतकर्ता फिर शिकायत दर्ज करा देते हैं।

Posted By: Brajesh Shukla