HamburgerMenuButton

Jabalpur News : औचक निरीक्षण करने पहुंचे कुलपति कार्य की रफ्तार देखकर हुए नाराज

Updated: | Tue, 22 Jun 2021 07:45 AM (IST)

जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। वेटरनरी विश्वविद्यालय में चल रहे निर्माण कार्य की रफ्तार बढ़ाने की कवायद शुरू हो गई है। विवि और कॉलेजों में चल रहे निर्माण कार्यों की समीक्षा की जा रही है। विवि के अंतर्गत आने वाले रीवा कॉलेज के निर्माण कार्यों को देखने विवि के कुलपति प्रो.एसपी तिवारी औचक निरीक्षण करने सोमवार को रीवा पहुंचे। अचानक उन्हें देखकर कॉलेज के प्रोफेसर और शिक्षक अचंभित रह गए। कुलपति ने सुबह पहुंचते ही कॉलेज का निरीक्षण किया। खास तौर पर यहां चल रहे निर्माण कार्य, जैसे कॉलेज, स्टॉफ क्वार्टर, हॉस्टल समेत सभी कार्यों को देखा। कार्य की रफ्तार देखकर वह नाराज हुए। निरीक्षण के दौरान उन्होंने संकेत दिया कि यदि इसी तरह कार्य की सुस्त रफ्तार रही तो वे इसकी जिम्मेदारी विवि से वापस लेकर शासकीय एजेंसी को दे देंगे।

मान्यता से पहले निरीक्षण : दरअसल भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद द्वारा विवि और उससे जुड़े जबलपुर, रीवा और महू वेटरनरी कॉलेजों की मान्यता के लिए निरीक्षण किया जाना है। हालांकि यह निरीक्षण भौतिक होने की बजाए वर्चुअल होगा। बावजूद इसके कॉलेजों की कार्यशैली सुधारने और अनुसंधान की गति बढ़ाने के लिए आइसीएआर से पहले कुलपति ने कॉलेजों का निरीक्षण शुरू कर दिया है। सोमवार को अचानक रीवा पहुंचाना भी उनके इसी निरीक्षण का एक भाग है।

निजी एजेंसी कर सकती है काम : रीवा वेटरनरी कॉलेजों में सालों से निर्माण कार्य चल रहा है, लेकिन कार्य की रफ्तार को लेकर सवाल उठते रहे हैं। वही कॉलेज प्रबंधन में मची उठापटक की वजह से यह काम और लेट होता जा रहा है। इस अव्यवस्था को सुधारने के लिए कुलपति जल्द ही कोई बड़ा निर्णय ले सकते हैं। हालांकि निरीक्षण के दौरान उन्होंने कॉलेज प्रबंधन को स्पष्ट कर दिया है कि यदि कॉलेज में किसी तरह की लापरवाही हुई तो उसे बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

-----------------

कॉलेज में चल रहे निर्माण कार्यों को देखने के लिए रीवा गया था। कार्य की गति बढ़े और गुणवत्ता बनी रहे, इसके लिए इसे काम को शासकीय एजेंसी से कराने पर विचार किया जा रहा है।

-प्रो.एसपी तिवारी, कुलपति वेटरनरी विवि जबलपुर

Posted By: Brajesh Shukla
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.