Jabalpur News : लोकायुक्‍त से रिश्वतखोर को पकड़वाया तो हो गया तबादला

Updated: | Fri, 22 Oct 2021 03:45 PM (IST)

जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। शिक्षा विभाग में लोकायुक्त से रिश्वतखोरी करते अफसर को पकड़वाना एक बाबू को भारी पड़ गया। शाबासी की बजाए उसका तबादला किया गया है। आरोप वित्तीय अभिलेखों को बिना अनुमति छूने का आरोप लगा है। तबादले की टाइमिंग को लेकर सवाल उठ रहे हैं। कर्मचारी संगठन का कहना है कि बाबू ने हाल ही में यहां के विकासखंड स्रोत समन्वयक के खिलाफ रिश्वतखोरी के मामले को उजागर करने में मदद की थी। जिसके बाद ही उनका तबादला किया गया है।

कार्यमुक्‍त कर दिया : जानकारी के अनुसार जनपद शिक्षा केंद्र ग्रामीण कार्यालय से लेखापाल विक्रम सिंह चौहान को कार्यमुक्त किया गया है। विकासखंड स्रोत समन्वयक की तरफ से जारी आदेश में कहा गया है कि लेखापाल द्वारा अवकाश के दिन में भी कार्यालय आकर वित्तीय कागजात को उपयोग में लिया गया। उनका यह कृत्य शासकीय सेवा के विपरीत है ऐसे में उन्हें कार्यालय से मुक्त किया जा रहा है। उन्हें जिला शिक्षा केंद्र में भेजा गया है। इस संबंध में जिला कलेक्टर, मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत, जिला शिक्षा अधिकारी समेत अन्य को भी पत्र भेजा गया है। सवाल ये है कि एकाएक यह कार्रवाई क्यों हुई। बता दें कि पिछले दिनों लोकायुक्त ने रिश्वत लेते हुए यहां के विकासखंड स्रोत समन्वयक को रंगे हाथ पकड़ा था। विभागीय अफसरों में चर्चा है कि इस कार्रवाई में लेखापाल की भूमिका थी। जिस वजह से उसे पद से मुक्त किया गया है ताकि मामले को कमजोर किया जा सके।

जेडी आफिस में भी कार्रवाई नहीं : लोकायुक्त की कार्रवाई के बाद संयुक्त संचालक कार्यालय में भी विभागीय कार्रवाई की जानी है लेकिन अभी तक अवकाश होने की वजह से यह काम नहीं हो सका है। विभागीय स्तर पर इस संबंध में जांच करवाई जाएगी।

Posted By: Brajesh Shukla