Mp News : पटाखों पर प्रतिबंध लगाने का आदेश सुरक्षित

Updated: | Wed, 27 Oct 2021 08:30 PM (IST)

जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल, एनजीटी ने कोरोना काल में दिवाली, क्रिसमस और नए वर्ष पर पटाखों पर प्रतिबंध लगाए जाने के मामले में आदेश सुरक्षित रखा है। बुधवार को एनजीटी के जस्टिस शिवकुमार सिंह व एक्सपर्ट मेम्बर अरुण कुमार वर्मा की युगलपीठ में इस मामले में सुनवाई हुई।

याचिका में यह कहा गया : नागरिक उपभोक्ता मार्गदर्शक मंच, जबलपुर के प्रांताध्यक्ष डा. पीजी नाजपांडे व नयागांव, जबलपुर निवासी सामाजिक कार्यकर्ता रजत भार्गव की ओर से याचिका दायर कर कहा गया है कि प्रदेश के जबलपुर, भोपाल, इंदौर और ग्वालियर में वर्ष 2021 की दिवाली, क्रिसमस और नए वर्ष में पटाखों की बिक्री, संग्रहण और उपयोग पर पूरी तरह प्रतिबंध लगाया जाए।

दो घंटे की दी जाए अनुमति : प्रदेश के अन्य शहरों में महज दो घंटे के लिए ग्रीन पटाखों की अनुमति दी जाए। अधिवक्ता प्रभात यादव ने दलील दी कि कोरोना की तीसरी लहर की संभावनाएं हैं। इसलिए पटाखों पर प्रतिबंध जरूरी है। पिछले वर्ष एनजीटी के आदेश के बाद भी जबलपुर, भोपाल, इंदौर और ग्वालियर में बड़े पैमाने पर पटाखे फोड़े गए। जिसके कारण दिवाली के दूसरे दिन 15 नवंबर 2020 को वायु इंडेक्स अत्यधिक खराब था।

शहपुरा भिटौनी के एलपीजी फिलिंग स्टेशन व पेट्रोलियम डिपो के दो किलोमीटर की परिधि में पटाखा छोड़ना व आतिशबाजी प्रतिबंधित : कलेक्टर एवं जिला दंडाधिकारी कर्मवीर शर्मा ने शहपुरा भिटौनी में स्थित एलपीजी फिलिंग स्टेशन तथा पेट्रोलियम की बल्क डिपो की दो किलोमीटर की परिधि के अंदर तथा जिले के भीतर पेट्रोलियम पदार्थ एवं एलपीजी भंडारण एवं संग्रहण के समस्त केन्द्रों के दो किलोमीटर परिधि के अंदर पटाखा छोड़ने और आतिशबाजी करने पर प्रतिबंध लगा दिया है। कलेक्टर शर्मा ने दीपावली के पर्व के अवसर पर किसी भी प्रकार की अप्रिय घटना को टालने तथा लोक व्यवस्था सुनिश्चित करने के उद्देश्य से प्रतिबंधात्मक आदेश जारी किया है। यह आदेश 16 नवम्बर तक प्रभावशील रहेगा। प्रतिबंधात्मक आदेश का उल्लंघन करने वाले व्यक्तियों के विरूद्ध भारतीय दंड विधान की धारा 188 के अंतर्गत कार्रवाई की जाएगी।

Posted By: Brajesh Shukla