जबलपुर में कोहरे से निपटने की तैयारी, इंजन में डिवाइस लेकर चलेंगे ड्राइवर

Updated: | Fri, 03 Dec 2021 09:50 AM (IST)

जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। हर साल ठंड आते ही ट्रेनों की रफ्तार पर कोहरे का ग्रहण लगने लगता है। इसे हटाने के लिए रेलवे कभी पटाखे फोेड़ते हैंं तो कभी नए डिवाइस उपयोग करता है। इस बार रेलवे ने ट्रेनों में ऐसे डिवाइस लगाए हैं, जिसकी मदद से कोहरे में भी रफ्तार कम नहीं होगा। रेलवे ने ट्रेन चलाने वाले ड्राइवरों को जीपीएस से चलने वाले नए और आधुनिक फॉग सेफ्टी डिवाइस दिए हैं। इनकी मदद से वे घने कोहरे में भी रेलवे ट्रैक के सिग्नल और ट्रैफिक की जानकारी ड्राइवर को आसानी से मिल जाएगी, जिससे वह ट्रेनों को तय रफ्तार पर चला सकता है। पश्चिम मध्य रेलवे के जबलपुर समेत भोपाल और कोटा मंडल की ट्रेनों में इन डिवाइस का उपयोग शुरू हो गया है।

पमरे के तीनों मंडल को मिले 604 डिवाइस: पमरे ने तीनों मंडल के आपरेटिंग विभाग को यह डिवाइस दिए हैं। अभी तक 604 डिवाइस दिए गए हैं और अभी 441 डिवाइस और आने हैं। इन डिवाइस का उपयोग जोन की लगभग 300 से ज्यादा ट्रेनों में किया जा रहा है। हर ड्राइवर को दो डिवाइस दिए हैं, ताकि ट्रेनों का परिचालन करने के दौरान एक डिवाइस खराब भी हो जाता है तो वह दूसरे डिवाइस की मदद से ट्रेनों का परिचालन कर सकता है।

ऐसे करता है काम : नए डिवाइस में कई महत्वपूर्ण बदलाव किए गए हैं। यह पूरी तरह से जीपीएस की मदद से संचालित होता है। जैसे ही ड्राइवर ड्यूटी पर साइन इन (इंजन में सवार) होता है, उसे यह डिवाइस दे दिए जाते हैं। डिवाइस की मदद से वह उसकी स्क्रीन पर ट्रेन के रूट चार्ट में आने वाले सिग्नल, ट्रेन और प्लाइंट समेत सभी जानकारी अपडेट करता है। जैसे ही कोहरो दिखाई देता है, वह इस डिवाइस पर दिखाए जा रहे सिग्नल की मदद से ट्रेन चलाता है।

वॉकी-टॉकी की तरह होता है डिवाइस : जानकारी के मुताबिक वॉकी-टॉकी की तरह ही क्रू-आपरेटेड फॉग सेफ्टी डिवाइस दिखता है। इसका उपयोग रेल इंजन के भीतर बैठा ड्राइवर आसानी से करता है। जानकार बताते हैं कि प्रयोग के तौर पर इस डिवाइस की मदद से घने कोहरे में भी ट्रेनों का संचालन किया गया, जिसके बेहतर परिणाम सामने आए हैं। पिछली डिवाइस के मुकाबले 80 से 85 फीसदी तक बेहतर परिणाम मिले हैं। एक डिवाइस की कीमत लगभग 80 हजार है।

इन ट्रेनों में आती है परेशानी :

- दिल्ली से जबलपुर आने और जाने वाली ट्रेनें

- उत्तर भारत से जबलपुर आने और जाने वाली ट्रेनें

- मुंबई से जबलपुर आने-जाने वाली ट्रेनें

…………...

परिचालन में संरक्षा को बढ़ाने के लिए इस डिवाइस का उपयोग किया गया है। इसकी मदद से ड्राइवर को कोहरे में ट्रेन चलाने में आसानी होती है। यह तकनीक सुरक्षा और रफ्तार, दोनों के लिए बेहतर है।

- राहुल जयपुरिया, जनसंपर्क अधिकारी, पमरे

Posted By: Brajesh Shukla