Prime Ministers Housing Scheme: दो वर्ष बाद आबाद हुए पीएम आवास, फिर लटके ताले

Updated: | Tue, 28 Sep 2021 01:41 PM (IST)

जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। करीब दो वर्ष के लंबे इंतजार के बाद रांझी मोहनिया में बनकर तैयार हुए पीएम आवास जैसे-तैसे हितग्राहियों को चाबी सौंपकर आबाद तो कर दिए गए। लेकिन आवासों में फिर से ताले लटक गए हैं। क्योंकि गरीमामय कार्यक्रम आयोजित कर 48 आवासों में जिन 12 पात्र हितग्राहियों को आवासों की चाबी सौंपी गई थी वह वहां अब भी नहीं रह रहे हैं। आवास स्थल में अब भी बिजली, पानी सड़क जैसे इंतजाम नाकाफी है। हितग्राहियों ने आवास तो अलाट करा लिए हैं लेकिन सुविधाओं के आभाव में फिलहाल यहां रहने तैयार नही है। सभी आवासों में ताले अब भी लटके हुए हैं। वहीं नगर निगम के अधिकारियों का कहना है कि योजना के तहत केंद्र व राज्य शासन की राशि निर्धारित है। आवास पंजीयन से प्राप्त राशि से आवासों सुविधाएं मुहैया कराई जा रही हैं।

सजे-धजे आवास सूने पड़े: विदित हो कि तीन सितंबर 2021 को एक गरीमामय कार्यक्रम कर कैंट क्षेत्र के विधायक अशोक रोहाणी की उपिस्थति में पात्र हितग्राहियाें को आवासों की चाबी सौंपी गई थी। इसके लिए आवासों को बकायादा सजाया गया था। जो दूसरे दिन से फिर सूने हो गए हैं। आवासों में ताला डाल दिया गया है।

इसलिए नहीं रहे रहे लोग

- पानी के लिए बने टैंक में गंदा पानी: मोहनिया में प्रधानमंत्री अवास योजना के तहत बनाए गए आवासों में पानी के लिए एक टैंक बनाया गया है। जिसमें गंदा पानी है। निर्माण कार्यों के लिए पानी का उपयोग किया जा रहा है। टैंक से कुछ आवासों में पानी की पाइपलाइन जोड़ी जा रही है।

- टीसी कनेक्शन से रोशन आवास: फिलहाल आवास स्थल पर स्थाई बिजली की सुविधा नही है। टेम्परेरी कनेक्शन लेकर ही निर्माण कार्य कराए जा रहे है साथ ही पीएम आवास रोशन किए जा रहे हैं। बताया जाता है कि स्थाई बिजली कनेक्शन के लिए यहां ट्रांसफार्मर व पोल लगाए जाने हैं। जिसका एमपीइबी से अनुबंध भी हो गया है। लेकिन काम की रफ्तार काफी सुस्त है।

- सड़क भी नदारत: रांझी झंडाचौक से आवास स्थल तक सड़क तो बनी है लेकिन पीएम आवास को इससे अब तक नहीं जोड़ा गया है। आवास स्थल के इर्द-गिर्द सड़क नाली आदि बनाकर अभी अंतिम रूप नहीं दिया गया है।

------

1104 आवास बन रहे, निर्माण की रफ्तार सुस्त

- 1104 आवास प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत बनाए जा रहे

- 912 ईडब्लूएस, 96 एलआइजी और 96 एमआइजी आवास बनवाए जा रहे हैं

- 48 ईडब्लूएस आवास ही अब तक बनकर तैयार हो पाए हैं

- 192 ने बुकिंग की, 12 हितग्राहियों को अब तक आवास आबंटित कर चाबी दी जा चुकी है

- 149 करोड़ रूपये है प्रोजेक्ट की निर्माण लागत

-----------

ऐसी है आवासों की कीमत

- ईडब्लूएस - 5 लाख 38 हजार

- एलआइजी - 15 लाख 24 हजार

- एमआइजी - 18 लाख

-----

आवास स्थल में पानी, बिजली की सुविधाएं उपलब्ध कराई जा रही है। जल्द ही ट्रांसफार्मर भी लग जाएगा। हितग्राहियों को कोई असुविधा नही होगी।

सुनील दुबे, कार्यपालन यंत्री व आवास योजना प्रभारी, नगर निगम

Posted By: Ravindra Suhane