Rashtriya Swayamsevak Sangh: नगर के बीच संघ का मुख्य पथ संचलन

Updated: | Sun, 17 Oct 2021 02:11 PM (IST)

जबलपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। विजयादशमी के पर्व पर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ द्वारा परम्परागत रूप से पथ संचलन किया जाता है। मालवीय नगर जबलपुर नर्मदा भाग का पथ संचलन शहर के मुख्य मार्गो से निकाला गया। संघ की पारम्पारिक वेशभूषा में स्वयं सेवकों ने पूरे अनुशासन के साथ संचलन निकाला। इस दौरान विभिन्न जगह स्वयं सेवकों का पुष्प बरसाकर स्वागत किया गया। संचलन टाउनहाल से ओमती, भरतीपुर, खलासीलाइन, सराफा, कमानिया गेट, फुहारा से होते हुए वापस टाउनहाल पहुंचा।

बैंड बाजे के धुन पर स्वयं सेवकों का कदमताल हुआ। विजयादशमी पर पूरे देश में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ यह कार्यक्रम पूरे उत्साह एवं श्रद्धा से मनाता चला आया है। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि इंजीनियर धीरेश खरे अध्यक्ष केडाई जबलपुर एवं मुख्य वक्ता अखिलेन्द्र सिंह जी थे।

इस मौके पर धीरेश खरे ने स्वयं सेवकों को संबोधित करते हुए कहा कि देश में 55 हजार शाखाएं है जिनकी सुबह और शाम नियमित शाखा लगती है। इस 55 हजार शाखाओं से मिलकर एक विशाल वट वृक्ष संघ ने तैयार किया है, जिसकी छाया में हम सभी भारतवासी सुरक्षित महसूस करते हैं। उन्होंने कहा कि मेरे शब्दों में राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ को थ्री डी से परिभाषित करता हूं। पहले डी में डिसीप्लीन अनुशासन, दूसरा डी से डेडीकेशन समर्पण और तीसरा डी का आशय डिवोशन भक्ति से है। जिस संस्था में तीनों डी का समावेश होगा वह निश्चित तौर पर एक बड़ी संस्था के रूप में उभरकर आएगी।

धीरेश खरे ने कहा कि स्वयं सेवक संघ की कार्यशैली एक मॉ की तरह है जो नवजात शिशु को संस्कारों से फलीभूत करती है। उसी तरह से संघ प्रत्येक भारतवासी को इन्हीं अच्छे संस्कारों से फलीभूत कर राष्ट्र को मजबूत बनाती है। भाग कार्यवाह अखिलेन्द्र सिंह ने अपने संबोधन में कहा कि वर्तमान में देश में अस्थिरता फैला रही है। हम सभी को आसुरी शक्तियों से सावधान रहना होगा। ऐसी शक्तियों का समूल निवारण करने पर जोर दिया जाना चाहिए। उन्होंने विजयादशमी के पर्व पर हिंदु जनमानष को शुभकामनाएं प्रेषित दी। मालवीय नगर कार्यवाह सुधीर नायक ने समस्त स्वंयसेवकों को विजयादशमी की शुभकामनाएं देते हुये संचलन की सफलता के लिये आभार जताया।

Posted By: Ravindra Suhane